CM शिवराज की बड़ी घोषणा , पातालपानी रेलवे स्टेशन का नाम होगा टंट्या मामा

CM शिवराज की बड़ी घोषणा , पातालपानी रेलवे स्टेशन का नाम होगा टंट्या मामा

इंदौर के भंवरकुआं चौराहा अब द नायक टंट्या भील नाम से जाना जाएगा। इसके अलावा एमआर 10 के बस स्टैंड का नाम भी बदलकर टंट्या मामा होगा।

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंडला में बड़ी घोषणा की है। उन्होंने कहा कि इंदौर के भंवरकुआं चौराहा अब द नायक टंट्या भील नाम से जाना जाएगा। इसके अलावा एमआर 10 के बस स्टैंड का नाम भी बदलकर टंट्या मामा होगा। सीएम शिवराज जनजातीय गौरव सप्ताह के समापन अवसर पर यहां पहुंचे हैं।

इसे भी पढ़ें:इंदौर में पुलिस ने युवक को मारी लात, वीडियो हुआ सोशल मीडिया पर वायरल 

दरअसल हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम हाल ही में गोंड रानी रानी कमलापति के नाम पर रखा गया है। वहीं स्वतंत्रता सेनानियों और आदिवासी नेताओं के नाम पर कई जगहों और संरचनाओं के नामकरण की मांग की जा रही है।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंडला में सभा को बताया कि कांग्रेस पार्टी ने जानबूझकर आदिवासियों और उनके नायकों के इतिहास को छुपाया है।

इसे भी पढ़ें:MP के बुरहानपुर जिले में शराबी डॉक्टर की पिटाई, एंबुलेंस से बाइक सवार को मारी टक्कर 

उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि पार्टी में अमरकंटक में एक आदिवासी विश्वविद्यालय खोला लेकिन उन्होंने इसका नाम इंदिरा गांधी के नाम पर रखा। उन्हें इसका नाम आदिवासी स्वतंत्रता सेनानियों के नाम पर रखना चाहिए था। मैं वादा करता हूं, मैं गोंडवाना की महिमा को बहाल करूंगा।

वहीं यूथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष विक्रांत भूरिया ने कहा कि बीजेपी के खून में ही जुमलेबाजी है। ये लोग हमेशा तुष्टिकरण की राजनीति करते हैं। पहली बात तो ये की भाजपा आदिवासियों को आदिवासी मानती ही नहीं है, ये हमें वनवासी कहते हैं। आदिवासियों से जो उनका अस्तित्व छिनने का प्रयास करने वाले लोग तो कोई ज्ञान न हीं दें।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।