पंजाब सरकार का बड़ा फैसला --विधायकों को सिर्फ एक टर्म पेंशन मिलेगी

पंजाब सरकार का  बड़ा फैसला --विधायकों को सिर्फ एक टर्म पेंशन मिलेगी

भगवंत मान ने कहा कि अगर कोई विधायक कई बार जीत भी जाता है तो उसे सिर्फ एक टर्म पेंशन मिलेगी। उन्होंने यह भी कहा कि विधायकों की पारिवारिक पेंशन भी कम की जाएगी। उन्होंने कहा कि इससे बचाए गए पैसे का इस्तेमाल पंजाब के लोगों के कल्याण के लिए किया जाएगा।

चंडीगढ़ पंजाब में अपने फैसले को लेकर चरचा में आ रही भगवंत मान सरकार ने आज एक ओर महत्वपूर्ण निर्णय लेकर विधायकों की पेंशन पर कैंची चला दी। जिससे विपक्षी नेताओं के लिये तो अजीब स्थिती पैदा हो गई है। वह न तो इस निर्णय को विरोध कर पा रहे हैं न ही समर्थन। सरकार के इस निर्णय से करोडों रूपये का लाभ सरकार को होगा। सरकार के इस ताजा निर्णय की जानकारी आज अपने विडियो संदेश में मुख्यमंत्री भगवंत मान ने खुद दी। 

 

पंजाब सरकार ने विधायकों की पेंशन को लेकर बड़ा फैसला लिया है. पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने एक वीडियो में जानकारी साझा की है कि पंजाब सरकार ने फैसला किया है कि विधायकों को सिर्फ एक टर्म पेंशन मिलेगी   

 

भगवंत मान ने कहा कि अगर कोई विधायक कई बार जीत भी जाता है तो उसे सिर्फ एक टर्म पेंशन मिलेगी  उन्होंने यह भी कहा कि विधायकों की पारिवारिक पेंशन भी कम की जाएगी। उन्होंने कहा कि इससे बचाए गए पैसे का इस्तेमाल पंजाब के लोगों के कल्याण के लिए किया जाएगा।

 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री ने भ्रष्टाचार विरोधी एक्शन लाईन नंबर -9501200200 जारी किया

 

शिरोमणि अकाली दल के संरक्षक प्रकाश सिंह बादल ने पूर्व विधायक के रूप में अपनी पेंशन पंजाब सरकार को सौंप दी है। पंजाब सरकार और विधानसभा अध्यक्ष को संबोधित एक ट्वीट में पंजाब के पांच बार के मुख्यमंत्री रह चुके शिरोमणि अकाली दल के मुखिया ने कहा कि एक पूर्व विधायक के रूप में उन्हें जो भी पेंशन मिलती है उसे जनकल्याण पर खर्च किया जाना चाहिए और किसी भी स्थिति में उन्हें नहीं भेजा जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल के सीएम जय राम ठाकुर का बयान दुर्भाग्यपूर्ण , एसजीपीसी

उन्होंने कहा कि इस संबंध में औपचारिक अनुरोध अलग से भेजा जा रहा है। वह पांच बार पंजाब के सीएम रहे हैं। "मेरा पंजाब सरकार और माननीय अध्यक्ष महोदय से निवेदन है कि पूर्व विधायक के रूप में मुझे जो भी पेंशन मिलती है, कृपया उसका उपयोग पंजाब की जनता के हित में करें। यह किसी भी स्थिति में मुझे नहीं भेजा जाना चाहिए। लिखित में औपचारिक अनुरोध अलग से भेजा जा रहा है।"





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।