गोवा में भाजपा 24 घंटे बिजली देने में रही नाकाम, सरकार बनी तो हम दिल्ली की तरह देंगे मुफ्त: केजरीवाल

Arvind Kejriwal
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया कि गोवा और दिल्ली के ऊर्जा मंत्रियों के बीच शानदार बहस हुई। लोकतंत्र के लिए अच्छा है। नीलेश कैब्राल ने स्वीकार किया कि भाजपा इतने साल शासन करने के बावजूद गोवावासियों को 24 घंटे बिजली देने में असफल रही है।

नयी दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि गोवा के ऊर्जा मंत्री राज्य में लोगों को 24 घंटे बिजली मुहैया कराने में अपनी पार्टी की सरकार की नाकामी स्वीकार कर चुके हैं लेकिन ‘आप’ अगर वहां सत्ता में आती है तो वह राज्य को ‘मुफ्त और निर्बाध’ बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करेगी। केजरीवाल की यह टिप्पणी दिल्ली के ऊर्जा मंत्री सत्येंद्र जैन और गोवा के उनके समकक्ष नीलेश कैब्राल के बीच सोमवार को राज्य की बिजली के मुद्दे पर हुई बहस के बाद आई है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में कब खुलेंगे स्कूल ? अरविंद केजरीवाल ने कहा- दूसरे राज्यों के अनुभव के आधार पर सोचेंगे 

केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘ गोवा और दिल्ली के ऊर्जा मंत्रियों के बीच शानदार बहस हुई। लोकतंत्र के लिए अच्छा है। नीलेश कैब्राल ने स्वीकार किया कि भाजपा इतने साल शासन करने के बावजूद गोवावासियों को 24 घंटे बिजली देने में असफल रही है। भाजपा मुफ्त बिजली भी मुहैया नहीं कराती।सत्येंद्र जैन ने वादा किया है कि गोवा को भी दिल्ली की तरह मुफ्त और निर्बाध बिजली मुहैया कराई जाएगी।’’ 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के मुख्यमंत्री ने विभिन्न विभागों के साथ मास्टर प्लान 2041 के मसौदे पर चर्चा की 

केजरीवाल ने 14 जुलाई को अपने गोवा दौरे में कहा था कि अगर आगामी विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी गोवा की सत्ता में आती है तो सरकार प्रत्येक परिवार को हर महीने 300 यूनिट बिजली मुफ्त मुहैया कराएगी। गोवा विधानसभा के लिए चुनाव अगले साल फरवरी में प्रस्तावित हैं। वर्ष 2017 में गोवा में हुए विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी खाता भी नहीं खोल सकी थी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़