गोवा अवैध खनन मामले में भाजपा आरोप साबित करे या माफी मांगे: कांग्रेस

Congress
कांग्रेस ने शनिवार को भाजपा पर आरोप लगाया कि उसने वर्ष 2012 का गोवा विधानसभा चुनाव जीतने के लिए उसके नेताओं पर अवैध खनन में शामिल होने के झूठे आक्षेप लगाए थे। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गिरीश चोडनकर ने कहा कि भाजपा अपने झूठे आरोपों के लिए माफी मांगे।

पणजी। कांग्रेस ने शनिवार को भाजपा पर आरोप लगाया कि उसने वर्ष 2012 का गोवा विधानसभा चुनाव जीतने के लिए उसके नेताओं पर अवैध खनन में शामिल होने के झूठे आक्षेप लगाए थे। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गिरीश चोडनकर ने कहा कि भाजपा अपने झूठे आरोपों के लिए माफी मांगे। कांग्रेस ने कहा कि भाजपा शासित राज्य सरकार पिछले एक दशक के दौरान कोई भी ‘घोटाले की रकम’ वसूलने में नाकाम रही है। पणजी में संवाददाताओं से बातचीत में कांग्रेस की गोवा इकाई के अध्यक्ष चोडनकर ने कहा कि भाजपा ने तत्कालीन कांग्रेस सरकार और इसके नेताओं पर खनन घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाते हुए कहा था कि इससे सरकारी खजाने को 35 हजार करोड़ का नुकसान हुआ है।

इसे भी पढ़ें: बाबा इकबाल सिंह का निधन, राष्ट्रपति कोविंद, PM मोदी समेत कई नेताओं ने जताया दुख

उन्होंने कहा, ‘‘विधानसभा की लोक लेखा समिति (पीएसी) की रिपोर्ट के आधार पर ये आरोप वर्ष 2012 में लगाए गए थे, लेकिन तथाकथित खनन घोटाले को लेकर भाजपा पिछले एक दशक के दौरान पैसा वसूल करने में क्यों नाकाम रही?’’ प्रदेशकांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा ने ये आरोप केवल चुनाव जीतने के लिए लगाए थे। उन्होंने कहा, ‘‘हम चाहते हैं कि भाजपा आरोपों (खनन घोटाले में कांग्रेस की कथित भागीदारी) को साबित करे या हमारे नेताओं और आम जनता से उन्हें भ्रमित करने के लिए माफी मांगे।’’

इसे भी पढ़ें: Uttarakhand Election:चुनाव के बदल गए चेहरे! टिहरी सीट से उपाध्याय बनाम नेगी, कौन मारेगा बाजी?

वर्ष 2011 में विवादित पीएसी रिपोर्ट में तत्कालीन मुख्यमंत्री दिगंबर कामत और कांग्रेस नेताओं पर आरोप लगाये गये थे। इस रिपोर्ट को पीएसी के तत्कालीन प्रमुख, भाजपा नेता और नेता प्रतिपक्ष मनेाहर पर्रिकर ने तैयार किया था।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़