ऑक्सीजन विवाद : भाजपा ने केजरीवाल के इस्तीफे की मांग के साथ जंतर मंतर पर धरना दिया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 28, 2021   16:20
ऑक्सीजन विवाद : भाजपा ने केजरीवाल के इस्तीफे की मांग के साथ जंतर मंतर पर धरना दिया

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की दिल्ली इकाई के नेताओं ने सोमवार को यहां जंतर मंतर पर धरना देकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का इस्तीफा मांगा। केजरीवाल पर आरोप है कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान शहर की ऑक्सीजन जरूरतों को उनकी सरकार द्वारा “बढ़ाकर” बताया गया।

नयी दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की दिल्ली इकाई के नेताओं ने सोमवार को यहां जंतर मंतर पर धरना देकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का इस्तीफा मांगा। केजरीवाल पर आरोप है कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान शहर की ऑक्सीजन जरूरतों को उनकी सरकार द्वारा “बढ़ाकर” बताया गया। सांसदों, विधायकों और पार्टी के पदाधिकारियों के साथ विरोध प्रदर्शन की अगुवाई करते हुए दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने यह भी कहा कि केजरीवाल को “आपराधिक लापरवाही के लिए गिरफ्तार किया जाना चाहिए।”

इसे भी पढ़ें: भारत के नए कश्मीर पॉलिसी से बौखलाया पाकिस्तान, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चेताया

गुप्ता ने कहा, “उच्चतम न्यायालय की एक समिति की अंतरिम रिपोर्ट में कहा गया है कि केजरीवाल सरकार ने असल जरूरत से चार गुणा ज्यादा ऑक्सीजन की मांग की जिससे अन्य राज्यों में ऑक्सीजन की कमी हो गई और कोविड मरीजों की मौत हुई। इसके लिए केजरीवाल स्वयं जिम्मेदार है और उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना चाहिए।”

इसे भी पढ़ें: डोपिंग मामले में महिला खिलाड़ी पर हुई बड़ी कार्रवाई, 4 साल का लगा प्रतिबंध

नयी दिल्ली की सांसद मीनाक्षी लेखी ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री केजरीवाल ने वायरस की दूसरी लहर से निपटने में अपनी सरकार की “नाकामी को छिपाने” के लिए ऑक्सीजन की कमी का “झूठा” मुद्दा बनाया। सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) ने भाजपा पर “मनगढंत” रिपोर्ट बनाने और इसके आधार पर दिल्ली सरकार को दोषी ठहराने की कोशिश करने का आरोप लगाया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।