उत्तराखंड चुनाव को लेकर भाजपा ने शुरू की तैयारियां, बुलाई गई बैठक

उत्तराखंड चुनाव को लेकर भाजपा ने शुरू की तैयारियां, बुलाई गई बैठक

बैठक का आयोजन रामनगर में होगा। माना जा रहा है कि इसमें भाजपा के लगभग 40 नेता शिरकत करेंगे। इस बैठक में राज्य कोर कमेटी के सदस्यों के अलावा कैबिनेट मंत्री, पूर्व महासचिव, सभी मोर्चों के प्रदेश अध्यक्ष के साथ-साथ राष्ट्रीय संगठन मंत्री बीएल संतोष और प्रदेश प्रभारी दुष्यंत गौतम भी शामिल होंगे।

अगले साल उत्तराखंड में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी है। पार्टी ने 3 दिन की बैठक बुलाई है जिसमें चुनाव को लेकर रणनीति पर चर्चा होगी। सूत्र यह दावा कर रहे हैं कि हर महीने के लिए अलग-अलग कार्यक्रम तय होंगे। इसके साथ ही कार्यकर्ता अभी से ही चुनाव के काम पर लग जाएंगे। उत्तराखंड भाजपा अध्यक्ष मदन कौशिक के अनुसार 27 से 29 जून तक चुनावी तैयारियों को लेकर एक बैठक बुलाई गई है। बैठक का आयोजन रामनगर में होगा। माना जा रहा है कि इसमें भाजपा के लगभग 40 नेता शिरकत करेंगे। इस बैठक में राज्य कोर कमेटी के सदस्यों के अलावा कैबिनेट मंत्री, पूर्व महासचिव, सभी मोर्चों के प्रदेश अध्यक्ष के साथ-साथ राष्ट्रीय संगठन मंत्री बीएल संतोष और प्रदेश प्रभारी दुष्यंत गौतम भी शामिल होंगे। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में ऑक्सीजन की नहीं होगी कमी, PHDCCI ने बंबई शेयर बाजार के साथ मिलाया हाथ

दूसरी ओर कांग्रेस में इस बात की भी चर्चा है कि इस बैठक के बाद उत्तराखंड में भाजपा एक बार फिर से मुख्यमंत्री बदल सकती है। इसके पीछे का तर्क यह दिया जा रहा है कि तीरथ सिंह रावत का कार्यकाल 9 सितंबर को खत्म हो जाना है। अगर उस समय तक वह विधायक नहीं बन पाए तो संविधान के मुताबिक वह मुख्यमंत्री नहीं रख सकते हैं। नियमों के मुताबिक उन्हें 6 महीने के भीतर ही सदन का सदस्य बनना जरूरी होता है। चुनाव अगले साल मार्च में होने हैं। ऐसे में उपचुनाव मुश्किल ही है। दूसरी ओर भाजपा का तर्क यह है कि ऐसे भी कई उदाहरण हमारे सामने हैं जहां चुनाव से पहले उपचुनाव हुए हैं।

इसे भी पढ़ें: कुंभ मेले के दौरान कोरोना टेस्ट में फर्जीवाड़ा, सीएम बोले- दोषियों के खिलाफ होगी कार्रवाई

उत्तराखंड भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि तय समय के भीतर ही मुख्यमंत्री विधायक बन जाएंगे। सूत्र यह दावा कर रहे हैं कि गंगोत्री सीट से मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को चुनाव लड़ाने की तैयारी में भाजपा है। वर्तमान में देखे तो राज्य में 2 सीटें खाली है। एक गंगोत्री जबकि दूसरी है हल्द्वानी। भाजपा नेता का दावा है कि 27 जून से हो रही तीन दिवसीय बैठक के बाद इन मसलों पर चर्चा होगी। वर्तमान में देखें तो उत्तराखंड में भाजपा के लिए सबसे बड़ी चुनौती सत्ता में दोबारा लौटना है। इतिहास देखें तो यहां सत्ता बदलती रहती है। ऐसे में क्या इस बार भाजपा इतिहास बनाने में कामयाब हो पाएगी यह तो वक्त ही बताएगा। लेकिन फिलहाल भाजपा गुटबाजी से जूझ रही है। पार्टी की नाराजगी को खत्म करने के लिए मुख्यमंत्री तक बदला गया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...