पश्चिमी यूपी में भाजपा ने झोंकी पूरी ताकत, लोगों को साधने के लिए मैदान में उतरे पार्टी के दिग्गज नेता

BJP leaders
अंकित सिंह । Jan 27, 2022 12:39PM
आज इसी कड़ी में केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अमित शाह मथुरा पहुंचे हैं। मथुरा में उन्होंने बांके बिहारी के दर्शन किए हैं। इसके बाद अमित शाह मथुरा पहुंचे और प्रभावी मतदाताओं से संवाद भी किया।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा ने अब प्रचार अभियान को तेज कर दिया है। पहले और दूसरे चरण में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में विधानसभा के चुनाव होने हैं। ऐसे में भाजपा की ओर से दिग्गज नेता अब मैदान में जाकर लोगों को पार्टी के पक्ष में करने की कोशिश में दिखाई दे रहे हैं। आज इसी कड़ी में केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अमित शाह मथुरा पहुंचे हैं। मथुरा में उन्होंने बांके बिहारी के दर्शन किए हैं। इसके बाद अमित शाह मथुरा पहुंचे और प्रभावी मतदाताओं से संवाद भी किया। अमित शाह आज ही दादरी पहुंचेंगे जहां वह डोर टू डोर कैंपेन भी करेंगे। इसके अलावा ग्रेटर नोएडा में अमित शाह प्रभावी मतदाता सम्मेलन को भी संबोधित करेंगे।

कुल मिलाकर देखे तो पश्चिमी उत्तर प्रदेश को साधने के लिए अमित शाह ने पूरी दमखम लगा दी है। मथुरा से भाजपा ने ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा को उम्मीदवार बनाया है। दूसरी ओर केंद्रीय रक्षा मंत्री और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री रह चुके भाजपा के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह भी आज पश्चिमी उत्तर प्रदेश में है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज गाजियाबाद में हैं। वह हापुड़ में प्रभावी मतदाता संवाद करेंगे। इसके बाद शाम में वह डोर टू डोर कैंपेन भी करेंगे। राजनाथ सिंह भी पार्टी के पक्ष में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में माहौल बनाने की कोशिश में हैं। राजनाथ सिंह गाजियाबाद से सांसद भी रह चुके हैं। इसके अलावा पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में से एक है।

इसे भी पढ़ें: योगी का अखिलेश पर तंज, कहा- खुद को कहते हैं समाजवादी, लेकिन इनके नस-नस में दौड़ रहा तमंचावाद

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की आज पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हैं। वह आज बिजनौर दौरे पर हैं जहां उनके विभिन्न कार्यक्रम हैं। चुनाव आयोग की कोविड-19 नियमों को ध्यान में रखते हुए पार्टी प्रचार-प्रसार में जुट गई है। इससे पहले आज योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश यादव पर एक बार फिर से निशाना साधा है। योगी आदित्यनाथ ने अपने ट्वीट में लिखा कि प्रदेश की पहचान अब 'दिव्य कुंभ' और 'भव्य दीपोत्सव' से है, वही रहेगी...प्रदेश की पहचान 'सैफई महोत्सव' से बनाने की लालसा रखने वाले अब इतिहास हैं, इतिहास ही रहेंगे...। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़