भाजपा की जीत के जश्न का ‘साइड इफेक्ट’ है, ईंधन की कीमतों में वृद्धि: कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 26, 2022   15:15
भाजपा की जीत के जश्न का ‘साइड इफेक्ट’ है, ईंधन की कीमतों में वृद्धि: कांग्रेस

पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार पर कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया, ‘‘राजा करे महल की तैयारी,प्रजा बेचारी महंगाई की मारी।’’ कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, ‘‘मोदी सरकार में महंगाई- तारीख़ नई, तकलीफ़ वही। आज की सुबह भी महंगाई से शुरू।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में निरंतर हो रही वृद्धि हालिया विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की जीत के जश्न का ‘साइड इफेक्ट’ (दुष्प्रभाव) है। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार पर कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया, ‘‘राजा करे महल की तैयारी,प्रजा बेचारी महंगाई की मारी।’’ कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, ‘‘मोदी सरकार में महंगाई- तारीख़ नई, तकलीफ़ वही। आज की सुबह भी महंगाई से शुरू। आज फ़िर से रेट 0.80 रुपये (प्रति लीटर) बढ़ा दिए। पांच दिन में 3.2 रुपये प्रति लीटर की लूट।

इसे भी पढ़ें: अनील अंबानी ने आर-पावर और आर- इंफ्रा के निदेशक पद से दिया इस्तिफा

भाजपा का जारी है- ज़श्न भरा शपथ , जनता को हर रोज़ महंगाई की चपत?’’ उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘ये सब तो अभी चुनावी जीत के भाजपाई जश्न का ताज़ा साइड इफ़ेक्ट है।’’ पेट्रोल और डीजल की कीमत में शनिवार को 80 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई।

इसे भी पढ़ें: भाजपा धर्म के नाम पर देश को बांटना चाहती है--- हिमाचल आप

पिछले पांच दिन में चौथी बार कीमत में बढ़ोतरी की गई है। सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम विपणन कंपनियों की तरफ से जारी मूल्य संबंधी अधिसूचना के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 97.81 रुपये प्रति लीटर से बढ़कर अब 98.61 रुपये प्रति लीटर और डीजल की कीमत 89.07 रुपये प्रति लीटर से बढ़कर 89.87 रुपये प्रति लीटर हो गई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।