देश के टुकड़े करना चाहती है भाजपा, हमारे पास उससे जान छुड़ाने का है मौका: महबूबा मुफ्ती

देश के टुकड़े करना चाहती है भाजपा, हमारे पास उससे जान छुड़ाने का है मौका: महबूबा मुफ्ती
प्रतिरूप फोटो

पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने कहा कि 70 साल पहले भारत के लोगों को देश को अंग्रेजों से आज़ाद कराने का मौका मिला था। आज हमारे पास मौका है भाजपा से जान छुड़ाने का। यह उस आज़ादी से भी बड़ी आज़ादी होगी क्योंकि ये इस देश के टुकड़े करना चाहते हैं। ये हिंदू, मुसलमान, सिख, ईसाई को बांटना चाहते हैं।

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि 70 साल पहले भारत के लोगों को देश को अंग्रेजों से आज़ाद कराने का मौका मिला था और आज हमारे पास भाजपा से जान छुड़ाने का मौका है। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर प्रशासन का बड़ा फैसला, पूर्व मुख्यमंत्रियों की हटेगी एसएसजी सुरक्षा 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने कहा कि 70 साल पहले भारत के लोगों को देश को अंग्रेजों से आज़ाद कराने का मौका मिला था। आज हमारे पास मौका है भाजपा से जान छुड़ाने का। यह उस आज़ादी से भी बड़ी आज़ादी होगी क्योंकि ये इस देश के टुकड़े करना चाहते हैं। ये हिंदू, मुसलमान, सिख, ईसाई को बांटना चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि जब ये बाबर और औरंगजेब की बात करते हैं तो इन्हें उत्तर प्रदेश में लोगों को देने और बोलने के लिए कुछ नहीं होता है। अगर होता तो गरीबी नहीं होती, अस्पताल होते, लोगों के पास रोज़गार होता तो कोरोना महामारी में लोग अपनों की लाशें गंगा में नहीं बहा रहे होते।

इसे भी पढ़ें: गुपकार के विरोध प्रदर्शन से पहले 3 पूर्व मुख्यमंत्री नजरबंद ! उमर बोले- हमारे गेट के बाहर खड़े हैं ट्रक

जिया-उल-हक के शासन से की थी सरकार की तुलना

गौरतलब है कि महबूबा मुफ्ती ने कुछ सप्ताह पहले भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार की तुलना पूर्व पाकिस्तानी सैन्य तानाशाह जनरल मुहम्मद जिया-उल-हक के शासन से की थी। उस वक्त उन्होंने अनुच्छेद 370 का जिक्र करते हुए कहा था कि हमारे देश में जो हो रहा है वह सब देख रहे हैं। हमारे लोकतंत्र और संविधान को नष्ट किया जा रहा है, जनरल जिया-उल-हक के शासन और आज के भारत में क्या अंतर है ? वे हमारे देश को जहर दे रहे हैं जैसे पाकिस्तानी शासक ने वहां किया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।