BJP का चिंतन शिविर हुआ शुरू, फिर शुरू होगी मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना

BJP का चिंतन शिविर हुआ शुरू, फिर शुरू होगी मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना

चिंतन शिविर में शनिवार को पहला बड़ा फैसला सामने आया है। अप्रैल से एक बार फिर मुख्यमंत्री तीर्थ योजना शुरू होगी। योजना को हवाई यात्रा से जोड़ा जाएगा। काशी विश्वनाथ कॉरिडोर, संत रविदास, करीब दास और गंगा स्नान के स्थानों से शुरू होगी ये योजना।

भोपाल। मध्य प्रदेश बीजेपी की 2 दिवसीय चिंतन शिविर में मुख्यमंत्री शिवराज ने मंत्रियों से दो टूक। उन्होंने कहा कि दो दिन तक सारी चिंताएं छोड़ दें। दोनों दिन गम्भीर चिंतन करें। पूरा फोकस बैठक पर रखें। विधानसभा में क्या हो रहा है, क्षेत्र में क्या हो रहा है। दुनिया में क्या हो रहा है। उसकी चिंता बिल्कुल न करें।

दरअसल चिंतन शिविर में शनिवार को पहला बड़ा फैसला सामने आया है। अप्रैल से एक बार फिर मुख्यमंत्री तीर्थ योजना शुरू होगी। योजना को हवाई यात्रा से जोड़ा जाएगा। काशी विश्वनाथ कॉरिडोर, संत रविदास, करीब दास और गंगा स्नान के स्थानों से शुरू होगी ये योजना।

इसे भी पढ़ें:भोपाल में गिरफ्तार आतंकियों के मददगार को भेजा सेंट्रल जेल, एटीएस ने कोर्ट से नहीं मांगी रिमांड 

वहीं मुख्यमंत्री ने कहा कि बिना किसी तामझाम के, कई बार मंत्रियों की बैठक होती है तो एसी टेंट, डोम पता नहीं क्या-क्या व्यवस्था करने की कल्पना होती है। प्राकृतिक सौंदर्य के बीच बैठकर इस प्राकृतिक वातावरण में बिना किसी आडंबर के हम गंभीर चिंतन करेंगे।

उन्होंने कहा कि कल शाम तक हमारा चिंतन चलेगा और लगातार हमको सोचना भी है। यहां से जो अमृत निकलेगा, उसको हम जनता के बीच बाटेंगे। जनता के कल्याण के लिए, प्रदेश के विकास के लिए इसका उपयोग करेंगे। उन्होंने कहा हम शरीर, मन, बुद्धि और आत्मा यही केंद्रित करें।

इसे भी पढ़ें:विवेक अग्निहोत्री के बयान के बाद कांग्रेस ने किया प्रदर्शन, डायरेक्टर ने सफाई में कही ये बात 

पको बता दें कि पचमढ़ी चितंन शिविर में मुख्यमंत्री की सुबह योग और समाचार पत्र पढ़ने के साथ हुई थी। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बैठक से पहले शनिदेव की पूजा अर्चना की। उन्होंने कहा कि शनिदेव न्याय के देवता हैं। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि जनता के न्याय के लिए ये पूजा की है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।