भाकियू कार्यकर्ताओं ने अर्धनग्न होकर टोल प्लाजा पर डिप्टी सीएम के सामने किया प्रदर्शन, झंडे भी दिखाए

भाकियू कार्यकर्ताओं ने अर्धनग्न होकर टोल प्लाजा पर डिप्टी सीएम के सामने किया प्रदर्शन, झंडे भी दिखाए

मेरठ के सर्किट हाउस से विभिन्न परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास कर डिप्टी सीएम नंगली तीर्थ के लिए रवाना हुए तो यहां पर उनके सामने विरोध प्रदर्शन के लिए भाकियू नेता झंडे लेकर पहुंच गए और विरोध जताने की कोशिश की।

मेरठ के सिवाया टोल प्लाजा पर रविवार को भारतीय किसान यूनियन के नेताओं और पदाधिकारियों ने अर्धनग्न होकर प्रदर्शन किया। इस दौरान मौके पर भारी पुलिस बल तैनात कर क्षेत्र को छावनी में तब्दील कर दिया गया। वहीं, पुलिस बल की मौजूदगी में भाकियू पदाधिकारियों ने टोल प्लाजा से निकले डिप्टी सीएम के काफिले के सामने प्रदर्शन किया और भाकियू के झंडे लहराए।  

इसे भी पढ़ें: किसान नेता राकेश टिकैत का बड़ा बयान, बोले- दिल्ली की तरह लखनऊ के भी रास्ते करेंगे सील 

बता दें कि मेरठ के सर्किट हाउस से विभिन्न परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास कर डिप्टी सीएम नंगली तीर्थ के लिए रवाना हुए तो यहां पर उनके सामने विरोध प्रदर्शन के लिए भाकियू नेता झंडे लेकर पहुंच गए और विरोध जताने की कोशिश की।

दरअसल, रविवार सुबह से ही भाकियू कार्यकर्ताओं का कार्यक्रम था कि वह नंगली तीर्थ आश्रम में डिप्टी सीएम के जाने के दौरान उनका विरोध करेंगे। मगर कार्यकर्ता लगातार पुलिस को गुमराह करते रहे। हालांकि सीओ क्राइम संजीव दीक्षित, इंस्पेक्टर दौराला ब्रिजेश चौहान और पल्लवपुरम इंस्पेक्टर देवेश शर्मा ने भाकियू पदाधिकारी मनोज त्यागी, विनीत सांगवान, बबलू जाटौली आदि से बातचीत कर किसी तरह का विरोध न करने को कहा। 

इसे भी पढ़ें: ट्रैक्टर पर संसद पहुंचे राहुल गांधी, कहा- काले कानून वापस लेने पड़ेंगे 

जब कार्यकर्ता स्पष्ट जबाव नहीं दे पाए तो मेरठ से मुजफ्फरनगर को जाने वाली टोल प्लाजा की एक और दो लेन को रिजर्व कर दिया। इस पर पुलिस बल तैनात कर दिया गया। डिप्टी सीएम का काफिला जब टोल पर पहुंचा तो कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी करनी शुरू कर दी। पुलिस ने भाकियू के कब्जे वाली पांच और छह नंबर की लेन से उन्हें बाहर नहीं निकलने दिया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।