छपरा में अवैध पटाखा फैक्ट्री में ब्लास्ट, 6 लोगों की मौत, SP बोले- जांच जारी

blast
ANI
अंकित सिंह । Jul 24, 2022 4:53PM
एसपी संतोष कुमार ने कहा कि छपरा में विस्फोट से एक घर के ढहने से छह लोगों की मौत हो गई। मलबे में दबे लोगों को निकालने का प्रयास किया जा रहा है। हम विस्फोट के कारणों की जांच कर रहे हैं। फॉरेंसिक टीम और बम निरोधक दस्ते को भी बुलाया गया है।

बिहार के छपरा में एक पटाखा बनाने वाली फैक्ट्री में ब्लास्ट होने की वजह से 6 लोगों की मौत हो गई है। घटना सारण जिले के खोदाईबाग गांव की है। ब्लास्ट होने पर दूर-दूर तक इसकी आवाज गई है। कई लोगों के मलबे में अभी भी दबे होने की सूचना है। राहत और बचाव कार्य जारी है। जिन लोगों को बचाया जा चुका है उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जानकारी के मुताबिक मरने वालों की संख्या में और वृद्धि हो सकती हैं। घटना की पुष्टि खुद सारण के एसपी संतोष कुमार ने की है। 

इसे भी पढ़ें: जगदानंद सिंह के बिगड़े बोल, कहा- RSS की तरह है PFI, जब भी पाकिस्तानी एजेंट पकड़े गए, वे हिंदू थे

अपने बयान में एसपी संतोष कुमार ने कहा कि छपरा में विस्फोट से एक घर के ढहने से छह लोगों की मौत हो गई। मलबे में दबे लोगों को निकालने का प्रयास किया जा रहा है। हम विस्फोट के कारणों की जांच कर रहे हैं। फॉरेंसिक टीम और बम निरोधक दस्ते को भी बुलाया गया है। बताया जा रहा है कि यहां अवैध रूप से पटाखा बनाने का काम होता था। एसपी ने इस बात की भी जानकारी दी है कि तीन भाइयों का मकान था। आगे की ओर साइकिल और रेडीमेड की दुकान चलती थी, पीछे पटाखा बनाया जाता था। 

इसे भी पढ़ें: थोड़ी-थोड़ी पीया करो...गरीबों को मांझी की सलाह, बड़े लोगों की तरह चुपके से शराब का आनंद लेना सीखें

रविवार को अचानक कि पटाखे में आग लग गई और बड़ा विस्फोट हुआ है। इस विस्फोट में तीन मंजिला मकान पूरी तरह से ध्वस्त हो गया है। मलबे में से भी पटाखों के फूटने की आवाज आई। स्थानीय लोगों ने सोशल मीडिया पर कई वीडियो भी जारी किए हैं। यह गैरकानूनी तरीके से पटाखा बनाने का काम बहुत पहले से चल रहा था। सूचना मिलने के साथ ही पुलिस मौके पर पहुंच गई और राहत तथा बचाव कार्य शुरू कर दिया गया।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़