ब्रह्माकुमारीज़ ने प्रकृति के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए लगाए पेड़, रक्षा बंधन का बताया महत्व

Brahma Kumaris
Prabhasakshi
कल्पतरुह कार्यक्रम के अंतर्गत ब्रह्माकुमारीज़ ने देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष में ये संकल्प लिया है की देश भर के सभी सेवाकेन्द्र मिलकर 75 दिनों में 40 लाख पेड़ लगाएंगे । इसी लक्ष्य से सेक्टर 99 में सब एकत्रित हुए और प्रकृति को सहयोग देते हुए हर सदस्य ने एक पेड़ लगाया ।

नोएडा।नोएडा के सेक्टर 46 स्थित ब्रह्माकुमारीज़ सेवाकेन्द्र द्वारा सेक्टर 99  स्थित लॉयर्स सोसाइटी, सुप्रीम टावर्स में कल्पतरुह कार्यक्रम का आयोजन किया गया और साथ में रक्षा बंधन का पर्व मनाते हुए रक्षा बंधन का आध्यात्मिक रहस्य भी बताया। इस कार्यक्रम में सत्यम रेड्डी, वरिष्ठ वकील, उच्चतम न्यायालय, प्रमोद कुमार, ऐ के तिवारी,  विल्स मैथयू, सुब्बाराव, ऐ के श्रीवास्तव, श्री प्रकाश सिंह, एस एस रेड्डी, अनीस गुप्ता, प्रमिला थाननजयन आदि उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ वकील सहित ब्रह्माकुमारीज़ सेक्टर 46 सेवाकेन्द्र प्रभारी बी. के. कीर्ति और  सेवाकेन्द्र के अन्य भाई बहने शामिल हुए।

इसे भी पढ़ें: चित्रकूट में BJP के 3 दिवसीय मंथन पर बोले अखिलेश, सत्ता पर कब्जा भाजपा का प्रथम और अंतिम ध्येय

कल्पतरुह कार्यक्रम के अंतर्गत ब्रह्माकुमारीज़ ने देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष में ये संकल्प लिया है की देश भर के सभी सेवाकेन्द्र मिलकर 75 दिनों में 40 लाख पेड़ लगाएंगे। इसी लक्ष्य से सेक्टर 99  में सब एकत्रित हुए और प्रकृति को सहयोग देते हुए हर सदस्य ने एक पेड़ लगाया । साथ में रक्षा बंधन का भी पर्व मनाया गया ।ब्रह्माकुमारी कीर्ति ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि जैसे हम पेड़ को लगाते है और उसके बढ़ने का ध्यान रखते है ऐसे ही हम सब यदि अपने अपने अंदर भी आज एक अच्छाई का बीज डालें और नित ज्ञान-योग के माध्यम से उस अच्छाई को सींचे तो प्रकृति के साथ साथ एक सुंदर समाज का भी विकास हो जाएगा । उन्होंने यह भी बताया कि सबके प्रति शुभ भावना रखते हुए हम अपने मन को पवित्र बनाए यही संदेश रखी का त्योहार हमें देता है। और रखी बांधने के बाद हमें अपनी कोई बुरी आदत या पुराने संस्कार की सौगात देनी है। तभी हम अपनी सच्ची रक्षा कर सकते है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़