लोकतंत्र की मजबूती के लिए जनप्रतिनिधियों में क्षमता निर्माण आवश्यक: बिरला

capacity-building-of-lawmakers-is-necessary-for-strengthening-democracy-says-om-birla
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने शुक्रवार को कहा कि लोकतंत्र की मजबूती के लिये जन प्रतिनिधियों में क्षमता निर्माण आवश्यक है। उन्होंने कहा कि संसदों ने देशों के बेहतर भविष्य के लिए नीतियां बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। बिरला कनाडा के ओटावा में राष्ट्रमंडल के स्पीकरों और पीठासीन अधिकारियों के 25वें सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

नयी दिल्ली। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने शुक्रवार को कहा कि लोकतंत्र की मजबूती के लिये जन प्रतिनिधियों में क्षमता निर्माण आवश्यक है। उन्होंने कहा कि संसदों ने देशों के बेहतर भविष्य के लिए नीतियां बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। बिरला कनाडा के ओटावा में राष्ट्रमंडल के स्पीकरों और पीठासीन अधिकारियों के 25वें सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा संसदीय प्रणाली में ‘स्पीकर्स’ लोकतंत्र और सहभागी शासन के संरक्षक हैं, और  उनके फैसले लोगों की समान भागीदारी और प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करने में बहुत प्रभाव डालते है। 

इसे भी पढ़ें: लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए जन प्रतिनिधियों के क्षमता निर्माण के प्रयास जरूरी है: लोकसभा अध्यक्ष

लोकसभा सचिवालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक कि बिरला ने कहा कि लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए जन प्रतिनिधियों में क्षमता निर्माण आवश्यक है। उन्होंने सभा को बताया कि हाल ही में उन्होंने सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले महत्वपूर्ण विधायी कार्यों पर सांसदों के लिए ब्रीफिंग सत्र आयोजित करने की परंपरा शुरू की है ताकि मुद्दों पर सदस्यों की जागरुकता में सुधार किया जा सके। 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़