मेडिकल चेकअप के लिए ले जाते वक्त फूट फूट कर रोने लगीं कैश क्वीन अर्पिता चटर्जी, सामने आई तस्‍वीर

Arpita
creative common
अभिनय आकाश । Jul 29, 2022 1:22PM
अर्पिता कार की पिछली सीट पर बैठ कर रोती रहीं और आखिर में उन्हें जबरन कार से बाहर निकाला गया। फिर उसने फिर से सड़क पर बैठने की कोशिश की।

शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में ईडी की गिरफ्त में आए ममता सरकार के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी को मेडिकल चेकअप के लिए अस्पताल ले जाया गया। इस दौरान कार में अर्पिता मुखर्जी फूट-फूट कर रोने लगीं। बता दें कि कोर्ट के आदेश के अनुसार पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी का हर 48 घंटे में मेडिकल चेकअप होना है। अर्पिता कार की पिछली सीट पर बैठ कर रोती रहीं और आखिर में उन्हें जबरन कार से बाहर निकाला गया। फिर उन्होंने सड़क पर बैठने की कोशिश की। वहां से उन्हें व्हीलचेयर पर जबरन अस्पताल ले जाया गया। अस्पताल में घुसने के बाद भी अर्पिता व्हीलचेयर पर बैठकर अपने हाथ-पैर झटकती दिखीं। 

इसे भी पढ़ें: मंत्रिपद के बाद TMC के अहम पदों से हटाए गए पार्थ चटर्जी, अभिषेक बोले- क्या भाजपा ने निर्मला सीतारमण को किया बर्खास्त ?

अर्पिता इस दौरान रो रही थीं और कुछ कहने की कोशिश कर रही थीं। हालांकि आसपास के शोर में इसे ठीक से नहीं सुना जा सका। लेकिन अर्पिता वहां पहुंचकर कार से बाहर नहीं निकलना चाहती थीं। वह फूट-फूट कर रोने लगा। जबरदस्ती कार से उतारने के बाद अर्पिता अस्पताल के इमरजेंसी विभाग के सामने गली में बैठ गई। अर्पिता को शुक्रवार सुबह सॉल्ट लेक स्थित सीजीओ कॉम्प्लेक्स से अलग वाहन में ले जाया गया।  विभिन्न सूत्रों के अनुसार जांच अधिकारी पार्थ-अर्पणा से आमने-सामने पूछताछ कर रहे हैं और सीजीओ कॉम्प्लेक्स में दस्तावेजों की मिलान कर रहे हैं। 

लगभग पूरे दिन पूछताछ जारी है। अपुष्ट सूत्र यह भी बताते हैं कि अर्पिता खाने को लेकर तरह-तरह की बातें कर रही हैं।

इसे भी पढ़ें: पार्थ चटर्जी को मंत्रिमंडल से हटाने के बाद बोलीं ममता, मेरी पार्टी करती है सख्त कार्रवाई

तल्लीगंज स्थित अपने फ्लैट से गिरफ्तार किए जाने पर अर्पिता जोर-जोर से चिल्लाई। उन्होंने कहा, वह निर्दोष हैं। यह सब बीजेपी की चाल है। उसके बाद उन्होंने फिर कहा, ''कानून का पालन करेंगी। संकेत थे कि वह धीरे-धीरे टूट रहा था। शुक्रवार को देखने में आया कि अर्पिता पूरी तरह टूट चुकी हैं। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़