CBI ने बैंक धोखाधड़ी मामले में जब्त किया बिल्डर का अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर, जानें इसके बारे में सबकुछ

AgustaWestland
ANI Image
अनुराग गुप्ता । Jul 30, 2022 11:01PM
सीबीआई ने पुणे में बिल्डर अविनाश भोसले के परिसरों की तलाशी के दौरान एक हेलीकॉप्टर जब्त किया। वह कथित तौर पर डीएचएफएल से जुड़े बैंक धोखाधड़ी मामले में शामिल था, जिससे यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के नेतृत्व में 17 बैंकों के एक संघ को 34,615 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था। अगस्ता वेस्टलैंड मेक हेलीकॉप्टर है।

मुंबई। सीबीआई ने शनिवार को डीएचएफएल से संबंधित 34,615 करोड़ रुपए के बैंक धोखाधड़ी मामले के सिलसिले में पुणे में बिल्डर अविनाश भोसले के परिसरों की तलाशी के दौरान अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर जब्त किया है। एक अधिकारी ने बताया कि आरोप है कि साल 2011 में वर्वा एविएशन ने 36 करोड़ रुपए में एब्ल्यू109एपी हेलीकॉप्टर खरीदा था। वर्वा एशिएन का मालिकाना हक एसोसिएशन ऑफ पर्संस के पास है।

इसे भी पढ़ें: सीबीआई जांच के लिए 221 अनुरोध लंबित, 168 अनुरोधों के साथ महाराष्ट्र शीर्ष पर 

हेलीकॉप्टर हुआ जब्त

समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि सीबीआई ने पुणे में बिल्डर अविनाश भोसले के परिसरों की तलाशी के दौरान एक हेलीकॉप्टर जब्त किया। वह कथित तौर पर डीएचएफएल से जुड़े बैंक धोखाधड़ी मामले में शामिल था, जिससे यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के नेतृत्व में 17 बैंकों के एक संघ को 34,615 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था। अगस्ता वेस्टलैंड मेक हेलीकॉप्टर है।

अविनाश भोसले के स्वामित्व वाली एबीआईएल इंफ्राप्रोजेक्ट्स लिमिटेड की कथित हेलीकॉप्टर में हिस्सेदारी है। चूंकि यह कथित तौर पर पकड़ा गया था कि व्यक्तियों की संपत्ति में हिस्सेदारी के लिए भुगतान करने के लिए इस्तेमाल किया गया धन, विभिन्न बैंकों द्वारा स्वीकृत ऋण निधि से प्राप्त किया गया था, सीबीआई ने हेलीकॉप्टर को जब्त कर लिया।

इसे भी पढ़ें: अर्पिता मुखर्जी के ठिकानों पर ED की कार्रवाई जारी, दूसरे घर में भी मिला कुबेर का खजाना 

आपको बता देंकि सीबीआई ने अविनाश भोसले को 26 मई को गिरफ्तार किया था। ऐसे में सीबीआई पिछले कुछ दिनों से छापेमारी कर रही थी। इसी बीच शनिवार को पुणे में बिल्डर के परिसरों में छापेमारी हुई और फिर जांच एजेंसी ने हेलीकॉप्टर को जब्त कर लिया। इस एक फोटो भी सामने आया है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़