• टोक्यो ओलंपिक: हॉकी टीम में शामिल वाराणसी के लाल ललित के घर जश्न का माहौल

आरती पांडेय Aug 05, 2021 18:00

टोक्यो ओलंपिक में पूरे 41 वर्ष के बाद भारत को हॉकी में मेडल जीतने के बाद वाराणसी में जश्न का माहौल है जैसे ही हॉकी में पदक मिलने का समाचार प्राप्त हुआ काशी में खेल प्रेमी जगह जगह राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा लेकर जश्न मनाने लगे और एक-दूसरे को मिठाइयां खिलाकर बधाई दी।

टोक्यो ओलंपिक में भारतीय  हॉकी टीम का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। वाराणसी के लाल ललित कुमार उपाध्याय  के घर जश्न का माहौल है, साथ ही पूरे शहर भर में हॉकी को मेडल मिलने पर काशीवासी पूरी टीम के साथ साथ ललित को बधाइयां दे रहे हैं। उनका कहना है कि काशी के लाल ने पूरे विश्व के सामने हमारा सर गर्व से ऊंचा किया है, काशी में सुबह से यह जश्न का माहौल है। भारत में पूरे 41 वर्ष के बाद हॉकी में मेडल जीता है। जिसमें सर्वोच्च देश के साथ साथ काशीवासी ज्यादा जश्न के मूड में है शहर भर में खेल प्रेमी युवा वर्ग सड़क पर उतर के जगह जहां राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा लेकर जश्न मनाने लगे है। भारतीय हॉकी टीम ने कड़े संघर्ष में जर्मनी को जैसे ही 5-4 से हरा कांस्य पदक अपने नाम किया। युवा खुशी से उछल पड़े। 

इसे भी पढ़ें: भारतीय हॉकी का सफर: गोल्डन युग से सेमीफाइनल के संघर्ष तक की कहानी

युवा भारतीय खिलाड़ियों को सोशल मीडिया के जरिये बधाई देने के बाद खुशी में मिष्ठान भी वितरित करते रहे। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी मलदहिया क्षेत्र में लोगों ने एक दूसरे को मिठाई खिलाकर और हाथों में तिरंगा लेकर जीत की बधाई दी। टोक्यो में हाकी टीम की शानदार जीत पूरे देशके लिए गर्व का क्षण है। ये नया भारत है, आत्मविश्वास से भरा भारत है। देश के लिए आज का मैच बेहद ही महत्वपूर्ण था, यही वजह था कि ललित उपाध्याय के परिजन भारतीय टीम की जीत के लिए मंदिर में पूजन कर टेलीविजन पर भारत के मैच को देखते रहे और जैसे ही भारत ने मैच जीता वैसे ही परिजनों के खुशी के आंशु छलक पड़े। ललित उपाध्याय के परिजनों ने एक दूसरे का मुंह मीठा करवाया और बधाई दिया।