ग्वार गम के निर्यात में आ रही बाधाओं को दूर करे केंद्र: गहलोत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2020   19:24
ग्वार गम के निर्यात में आ रही बाधाओं को दूर करे केंद्र: गहलोत

अशोक गहलोत के अनुसार, इससे राज्य के ग्वार उत्पादक किसानों की आय घट रही है और उनका रूझान इस फसल के प्रति कम हो रहा है। इसे देखते हुए ग्वार उत्पादक किसानों की आय में बढ़ोतरी तथा ग्वार गम के अन्य उपयोगों के बारे में पर्याप्त शोध एवं अनुसंधान की आवश्यकता है।

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार से राज्य से ग्वार गम के निर्यात में आ रही बाधाओं को दूर करने का अनुरोध किया है। इसके साथ ही उन्होंने ग्वार गम के अनुसंधान, जांच व प्रमाणीकरण के लिए राज्य में राष्ट्रीय स्तर की संस्था का केन्द्र खोलने का अनुरोध किया है। गहलोत ने इस बारे में केन्द्रीय वाणिज्य व उद्योग मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने लिखा है कि राजस्थान ग्वार गम का प्रमुख उत्पादक राज्य है। वर्तमान में औद्योगिक क्षेत्र में ग्वार गम के नए विकल्पों के कारण इसकी अन्तरराष्ट्रीय बाजार में कीमतें तेजी से गिरी हैं।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस नेता शमशेर सुरजेवाला का निधन, राहुल और कई नेताओं ने दुख जताया

गहलोत के अनुसार, इससे राज्य के ग्वार उत्पादक किसानों की आय घट रही है और उनका रूझान इस फसल के प्रति कम हो रहा है। इसे देखते हुए ग्वार उत्पादक किसानों की आय में बढ़ोतरी तथा ग्वार गम के अन्य उपयोगों के बारे में पर्याप्त शोध एवं अनुसंधान की आवश्यकता है।मुख्यमंत्री ने गोयल से अनुरोध किया कि ग्वार गम के अनुसंधान व विकास के लिए केन्द्र सरकार योजना बनाए। राज्य सरकार ने इस उद्देश्य से जोधपुर में भूमि भी आवंटित कर दी है।मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्वार गम की ट्रेडिंग एनसीडीईएक्स से लिंक होने के कारण इसके व्यापार में अनिश्चितता बनी रहती है। इस कारण ग्वार का उत्पादन करने वाले किसानों को इसका कोई लाभ नहीं मिल पाता है, ऐसे में ग्वार गम रिफाइंड स्प्लीट स्पिलट को एनसीडीईएक्स से बाहर निकालना उचित होगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।