कर्नाटक में मध्यावधि चुनाव लोगों पर अतिरिक्त बोझ होगा: सदानंद गौड़ा

central-elections-in-karnataka-will-have-extra-burden-on-people-says-sadanand-gowda
देवगौड़ा कुछ समय बाद अपने बयान से पलट गए और कहा कि वह स्थानीय निकाय चुनावों के बारे में कह रहे थे न कि विधानसभा चुनावों के बारे में।

बेंगलुरू। केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा ने रविवार को कहा कि मध्यावधि चुनाव कर्नाटक लोगों पर अतिरिक्त बोझ होगा।उन्होंने कहा कि अवसर मिलने पर भाजपा ‘‘चीजों को ठीक कर देगी।’’ नगर के बाहरी इलाके नीलमंगला में प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र का उद्घाटन करने के बाद रसायन एवं उर्वरक मंत्री ने कहा कि चुनावों के कारण सभी विकास कार्य थम गए थे।

गौड़ा ने कहा, ‘‘मध्यावधि चुनाव लोगों पर बोझ है। वर्तमान परिस्थितियों में नयी सरकार बननी चाहिए लेकिन लोगों पर मध्यावधि चुनाव लादना उचित नहीं है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हम लोगों को कठिनाइयों में नहीं डालना चाहते। अगर वे चीजों को दुरूस्त नहीं करते हैं तो अवसर मिलने पर चीजों को ठीक करेंगे।’’ उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनावों के कारण पिछले तीन-चार महीने विकास कार्य नहीं हो सके और राज्य में मध्यावधि चुनाव से अगले 40 से 50 दिनों तक फिर इसी तरह की स्थिति बन जाएगी।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में पिछले 24 घंटे में नौ हत्याएं, AAP ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना

गौड़ा ने कहा, ‘‘इससे लोगों पर अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। यह ठीक नहीं है।’’ जद (एस) सुप्रीमो एच डी देवगौड़ा ने कुछ दिनों पहले यह कहकर राजनीतिक तूफान खड़ा कर दिया था कि राज्य में जल्द ही मध्यावधि चुनाव होंगे। उनके इस बयान के बाद सदानंद गौड़ा का यह बयान सामने आया है। बहरहाल, देवगौड़ा कुछ समय बाद अपने बयान से पलट गए और कहा कि वह स्थानीय निकाय चुनावों के बारे में कह रहे थे न कि विधानसभा चुनावों के बारे में।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़