प्रधान न्यायाधीश ने राष्ट्रपति से मुलाकात कर संविधान दिवस समारोह में शामिल होने का निमंत्रण दिया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 19, 2021   07:13
प्रधान न्यायाधीश ने राष्ट्रपति से मुलाकात कर संविधान दिवस समारोह में शामिल होने का निमंत्रण दिया
प्रतिरूप फोटो

भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ था। संविधान दिवस को राष्ट्रीय विधि दिवस भी कहा जाता है।

नयी दिल्ली|  भारत के प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) एन वी रमण ने बृहस्पतिवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की और उन्हें यहां संविधान दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर शरीक होने के लिये आमंत्रित किया।

संविधान दिवस 26 नवंबर को मनाया जाता है क्योंकि 1949 में इसी दिन भारत की संविधान सभा ने संविधान को स्वीकार किया था। भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ था। संविधान दिवस को राष्ट्रीय विधि दिवस भी कहा जाता है।

इसे भी पढ़ें: जमानत देने के लिए कठिन शर्तें लगाना जमानत से इनकार करने के समान: न्यायालय

एक आधिकारिक बयान में कहा गया, सीजेआई एन वी रमण ने आज माननीय राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की और उन्हें 27 नवंबर को संविधान दिवस समारोह के समापन के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।