मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने जनजातीय नृत्य एवं क्राफ्ट मेला व स्वर्गीय ठाकुर सेन नेगी संग्रहालय का शुभारम्भ किया

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने जनजातीय नृत्य एवं क्राफ्ट मेला व स्वर्गीय ठाकुर सेन नेगी संग्रहालय का शुभारम्भ किया

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने इस बड़े समारोह को आयोजित करने के लिए 30 लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की है। उन्होंने कहा कि इस अवसर पर लगाई गई प्रदर्शनी जनजातीय हथकरघा एवं हेंडलूम बुनकरों को अपने उत्पादों की बिक्री के लिए एक सशक्त मंच है। उन्होंने कहा कि किन्नौर जिला अपनी समृद्ध संस्कृति एवं परम्पराओं के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है।

 शिमला ।    मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज किन्नौर जिला के अपने एक दिवसीय प्रवास के दौरान रिकांपिओ में पांच दिवसीय जनजातीय नृत्य व क्राफ्ट मेला के शुभारम्भ अवसर पर उपस्थित लोगों का संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार इस वर्ष को पूर्ण राज्यत्व के स्वर्णिम जयंती वर्ष के रूप में मना रही है।

 

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने इस बड़े समारोह को आयोजित करने के लिए 30 लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की है। उन्होंने कहा कि इस अवसर पर लगाई गई प्रदर्शनी जनजातीय हथकरघा एवं हेंडलूम बुनकरों को अपने उत्पादों की बिक्री के लिए एक सशक्त मंच है। उन्होंने कहा कि किन्नौर जिला अपनी समृद्ध संस्कृति एवं परम्पराओं के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री ने रिकांगपिओ 77 करोड़ रुपये की 31 विकास परियोजनाओं के शिलान्यास एवं लोकार्पण किए

जय राम ठाकुर ने कहा कि आज हमें प्रदेश की समृद्ध संस्कृति और परम्पराओं को सहेजने एवं संरक्षित करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि किन्नौर जिला बागवानी, शिक्षा, स्वास्थ्य सहित विकास के विभिन्न क्षेत्रों में निरन्तर आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश ने कोविड-19 टीकाकरण की पहली खुराक प्रदान करने में शत-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त किया है तथा किन्नौर जिला इसमें अग्रणी बनकर उभरा है और यह कोविड-19 वैक्सीन की दूसरी खुराक प्रदान करने में शत-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करने वाला देश का प्रथम जिला बना है।

इसे भी पढ़ें: 600 किसानों की हत्या की जिम्मेदार भाजपा अब किसान हितैषी होने का ढोंग रच रही- दीपक शर्मा

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष स्वर्गीय ठाकुर सेन नेगी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वह न केवल एक महान प्रशासक और नेता थे, बल्कि जनजातियों संस्कृति के प्रमुख संवाहक भी थे। उन्होंने कहा कि यहां स्थापित संग्रहालय को और सुदृढ़ करने के लिए प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि स्वतंत्र भारत के प्रथम मतदाता श्याम सरण नेगी भी इसी क्षेत्र से संबंध रखते हैं।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल सरकार का प्रयास- गांवों से शहरों तक मजबूत हो खेल ढांचा, और बेहतर हों प्रशिक्षण सुविधाएं -- महेंद्र सिंह ठाकुर

 जय राम ठाकुर ने कहा कि ग्रामीण एवं पहाड़ी क्षेत्र से संबंध रखने के कारण वे इन क्षेत्रों की विकासात्मक आवश्यकताओं से भली-भांति परिचित हैं । उन्होंने प्रशासनिक कार्य प्रणाली को और सुदृढ़ करने के उद्देश्य से जिला मुख्यालय में अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी का एक पद सृजित करने की घोषणा की। उन्होंने शोब्रांग में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खोलने और ग्राम पंचायत संगड़ाह में पशु औषधालय स्थापित करने की भी घोषणा की। इसके अतिरिक्त उन्होंने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भावानगर का दर्जा बढ़ाकर इसे नागरिक अस्पताल करने और राजकीय उच्च पाठशाला पानवी का दर्जा बढ़ाकर इसे राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि पटवार वृत्त कनम को तहसील पूह से हटाकर तहसील मुरंग के अधीन लाया जाएगा।  इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने पूर्व विधानसभा अध्यक्ष स्वर्गीय ठाकुर सेन नेगी संग्रहालय का लोकार्पण किया। उन्होंने दिवंगत नेता की प्रतिमा पर पुष्पांजलि भी अर्पित की। उन्होंने अग्निशमन के दो वाटर टेंडर वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल सरकार का प्रयास- गांवों से शहरों तक मजबूत हो खेल ढांचा, और बेहतर हों प्रशिक्षण सुविधाएं -- महेंद्र सिंह ठाकुर

प्रधान सचिव राजस्व और जनजातीय विकास ओंकार शर्मा ने कहा कि यह मेला संयोग से आजादी के 75 वर्ष के अमृत महोत्सव के दौरान आयोजित किया जा रहा है और भारत सरकार का जनजातीय कार्य मंत्रालय जनजातीय क्षेत्र की समृद्ध संस्कृति को संरक्षित करने का प्रयास कर रहा है। उन्होंने कहा कि जिला किन्नौर अपनी समृद्ध संस्कृति के लिए जाना जाता है। राज्य सरकार जनजातीय क्षेत्र के विकास के लिए प्रतिबद्ध है और क्षेत्र के विकास के लिए कई योजनाएं आरम्भ की हैं। उपायुक्त-एवं-अध्यक्ष मेला समिति आबिद हुसैन सादिक ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि इस जनजातीय मेले के आयोजन का मुख्य उद्देेश्य जनजातीय क्षेत्र की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को प्रदर्शित करना है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।