Jharkhand में 17.57 लाख ग्रामीण परिवारों तक नल से जल पहुंचा : मुख्यमंत्री

water
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि सोरेन की अध्यक्षता में आज झारखंड मंत्रालय स्थित सभागार में राज्य में संचालित ‘जल जीवन मिशन’ (हर घर नल-जल योजना) एवं स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के कार्य प्रगति की समीक्षा बैठक हुई।

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बृहस्पतिवार को कहा कि अब तक राज्य में लगभग 17.57 लाख (28.73 प्रतिशत) ग्रामीण परिवारों तक नल से जल पहुंचाया जा चुका है। उन्होंने दावा किया कि अभी तक राज्य के 630 गांवों, 105 ग्राम पंचायतों तथा एक प्रखंड को शत-प्रतिशत हर घर नल से जल का लाभ मिल रहा है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि सोरेन की अध्यक्षता में आज झारखंड मंत्रालय स्थित सभागार में राज्य में संचालित ‘जल जीवन मिशन’ (हर घर नल-जल योजना) एवं स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के कार्य प्रगति की समीक्षा बैठक हुई।

बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली सरकार के कार्यकाल तक झारखंड में केवल 3.45 लाख (5 प्रतिशत) घरों में नल से जल उपलब्ध हो पाया था। सरकार के पिछले साल में 14.12 लाख परिवारों को नल का जल पहुंचाया है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘राज्य में सर्वाधिक सौर ऊर्जा आधारित जल प्रदाय योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है। विभाग द्वारा सौर ऊर्जा को जल प्रदाय योजना में प्रमुखता दी गई है जिससे राज्य को लगभग 500 से 600 करोड़ रुपए की बचत होगी एवं उसी प्रमाण में ऊर्जा संरक्षण भी किया जा सकेगा।’’

मुख्यमंत्री ने कहा कि पेयजल एवं स्वच्छता विभाग राज्य में जलवायु के अनुकूल जल के बुनियादी ढांचे को विकसित करने का प्रयास कर रही है इस संबंध में विभाग द्वारा कई योजनाएं एवं कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। बैठक में मुख्यमंत्री ने केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को आश्वासन दिया कि 2024 तक हर हाल में जल जीवन मिशन के तहत (हर घर नल जल योजना) के कार्य को पूरा कर लिया जाएगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़