गलवान घाटी में चीनी झंडा फहराने का वीडियो आया सामने तो राहुल ने केंद्र सरकार को घेरा, कहा- मोदी जी, चुप्पी तोड़िये

गलवान घाटी में चीनी झंडा फहराने का वीडियो आया सामने तो राहुल ने केंद्र सरकार को घेरा, कहा- मोदी जी, चुप्पी तोड़िये
प्रतिरूप फोटो

चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। हाल ही में चीन ने गलवान घाटी में अपना झंडा फहराया, जो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर छाया हुआ है। जिसको लेकर भारत में विपक्ष ने सरकार को घेरने की कोशिश की है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि हमारा तिरंगा गलवान में अच्छा दिखता है।

लद्दाख। पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) को लेकर भारत और चीन के बीच गतिरोध बना हुआ है। इसी बीच गलवान घाटी का एक वीडियो सामने आया। जिसके लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी समेत तमाम नेताओं ने केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मोदी जी, चुप्पी तोड़िये। राहुल गांधी ने एक ट्वीट में लिखा कि हमारा तिरंगा गलवान में अच्छा दिखता है। चीन को जवाब दिया जाना चाहिए। मोदी जी, चुप्पी तोड़ो। 

इसे भी पढ़ें: भारत-चीन तनाव के बीच बोले नौसेना प्रमुख, हम किसी भी खतरे से निपटने में पूरी तरह सक्षम 

दरअसल, चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। हाल ही में चीन ने गलवान घाटी में अपना झंडा फहराया, जो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर छाया हुआ है। जिसको लेकर भारत में विपक्ष ने सरकार को घेरने की कोशिश की है। यूथ कांग्रेस अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने भी प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि नए साल के मौके पर भारत की गलवान घाटी में चीनी झंडा फहराया गया। 56 इंच का चौकीदार कहां हैं ?

इससे पहले कांग्रेस ने चीन द्वारा अरुणाचल प्रदेश के 15 स्थानों का नाम अपनी में करने को लेकर निशाना साधा था। राहुल गांधी ने ट्विटर पर कहा था कि अभी कुछ दिनों पहले हम 1971 के युद्ध में भारत की गौरवपूर्ण जीत को याद कर रहे थे। देश की सुरक्षा और विजय के लिए सूझबूझ और मजबूत फैसलों की ज़रूरत होती है। खोखले जुमलों से जीत नहीं मिलती। 

इसे भी पढ़ें: चीन की इतनी हिम्मत ? अरुणाचल प्रदेश के 15 स्थानों के नाम बदलने की घोषणा कैसे कर सकता है ड्रैगन ? 

चीन के सरकारी अखबार 'ग्लोबल टाइम्स' की खबर के अनुसार चीन ने भारत के पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश में 15 और स्थानों के लिए चीनी अक्षरों, तिब्बती और रोमन वर्णमाला के नामों की घोषणा की है। चीन अरुणाचल प्रदेश के दक्षिण तिब्बत होने का दावा करता है। हालांकि भारत ने चीन द्वारा अरुणाचल प्रदेश के 15 स्थानों के नाम बदलने के कदम को सिरे से खारिज कर दिया था और साफ शब्दों में कहा था कि अरुणाचल प्रदेश हमेशा से भारत का अभिन्न अंग रहा है और हमेशा रहेगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।