चिराग ने जबरन पिता को अध्यक्ष पद से हटाया, अब उनसे संबंध नहीं रखूंगा: पशुपति पारस

Pashupati Paras
अंकित सिंह । Aug 25, 2021 12:57PM
पारस ने कहा के चिराग के रवैये के कारण पार्टी में नाराजगी बढ़ती जा रही थी। पार्टी के सांसद बगावत के मूड में आ गए थे। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि बिहार में NDA के बाहर जाकर चुनाव लड़ने का फैसला चिराग ने लिया था।

केंद्र में मंत्री बनने के बाद पशुपति पारस ने आज एक निजी चैनल को इंटरव्यू दिया। इस इंटरव्यू में पशुपति पारस के तमाम सवालों का जवाब दिया। इसी दौरान उन्होंने चिराग पासवान पर बड़ा आरोप लगाते हुए दावा किया कि उन्होंने रामविलास पासवान को जबरन अध्यक्ष पद से हटाया। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि चिराग ने मुझे चाचा मानने से इनकार कर दिया। चिराग के साथ अब कोई संबंध नहीं रखूंगा। मतभेद की बात करते हुए उन्होंने कहा कि चिराग चाहते थे कि सभी पद हमारे ही पास रहे। जबकि ऐसा होना नहीं चाहिए।

इसे भी पढ़ें: शिक्षा मंत्रालय ने वर्चुअल ओपन स्कूल की शुरूआत की, धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा- समावेशी शिक्षा में मिलेगी मदद

पारस ने कहा के चिराग के रवैये के कारण पार्टी में नाराजगी बढ़ती जा रही थी। पार्टी के सांसद बगावत के मूड में आ गए थे। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि बिहार में NDA के बाहर जाकर चुनाव लड़ने का फैसला चिराग ने लिया था। जाति आधारित जनगणना की मांग को लेकर एलजेपी नेता ने कहा कि हम इस मामले पर एनडीए के साथ हैं। उन्होंने यह भी कहा कि नीतीश कुमार के ही मदद से वह केंद्र में मंत्री बन रहे हैं। आपको बता दें कि लोजपा में फूट के बाद पार्टी के पांच सांसद चिराग पासवान से अलग हो गए। इसके चिराग पासवान ने चाचा पशुपति पारस पर कई बड़े आरोप लगाए थे। आज पशुपति पारस ने चिराग पर पलटवार किया है। 

इसे भी पढ़ें: अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए उद्योगों को रोजगार के अवसर तेजी से बढ़ाने होंगे

आपको बता दें कि केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री एवं लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस के काफिले पर उनके संसदीय क्षेत्र हाजीपुर में सोमवार को असामाजिक तत्वों ने मोबिल ऑयल फेंका जिसके छींटे मंत्री के कपडे़ पर भी पडे़। हालांकि, पारस ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान मोबिल (वाहनों के इंजन में इस्तेमाल तेल) उनपर पड़ने से इनकार किया, पर मोबिल ऑयल के छींटे उनके कपडों पर देखे गए। केंद्रीय मंत्री ने इसे पुलिस और प्रशासन की विफलता बताते हुए कहा कि कुछ असामाजिक तत्वों ने उपद्रव करने की कोशिश की। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़