मध्य प्रदेश में भोपाल सहित कई जिलों में छाए बादल, गरज चमक के साथ बारिश के आसार

मध्य प्रदेश में भोपाल सहित कई जिलों में छाए बादल, गरज चमक के साथ बारिश के आसार

मौसम विज्ञानियों के मुताबिक बुधवार को ग्वालियर, चंबल, सागर, भोपाल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं बारिश होने की संभावना है। शेष स्थानों पर मौसम शुष्क रहने के आसार हैं। उधर एक अन्य पश्चिमी विक्षोभ वर्तमान में अफगानिस्तान और उससे लगे पाकिस्तान पर सक्रिय है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के आसपास सक्रिय सिस्टम के कारण लगातार आ रही नमी से राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में बादल छाए हुए है। बादल छाने से अप्रैल के तीसरे पखवाड़े में भी तापमान में बढ़ोत्तरी नहीं हो पा रही है और भीषण गर्मी से राहत है। मौसम विभाग के अनुसार बुधवार को ग्वालियर, चंबल, सागर, भोपाल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं बारिश होने की संभावना है। शेष स्थानों पर मौसम शुष्क रहने के आसार हैं।

 

इसे भी पढ़ें: कोरोना कर्फ्यू के चलते पेंच नेशनल पार्क की पर्यटन गतिविधि स्थगित

वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि फरवरी के दूसरे पखवाड़े से उत्तर भारत में पश्चिमी विक्षोभ के आने का शुरू हुआ सिलसिला अभी भी जारी है। इसी क्रम में वर्तमान में जहां जम्मू-कश्मीर में एक पश्चिमी विक्षोभ बना हुआ है, वहीं दक्षिण-पश्चिम मध्य प्रदेश से लेकर तमिलनाडु तक एक द्रोणिका लाइन (ट्रफ) बनी हुई है। इस सिस्टम के कारण मिल रही नमी से मंगलवार से ही प्रदेश के कई जिलों में बादल छाने लगे हैं। इस सिस्टम के कारण अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से कुछ नमी आने लगी है। इस वजह से बादल छाने लगे हैं। इससे एक बार फिर बारिश के आसार बन गए हैं।

 

इसे भी पढ़ें: शेरवानी खरीदने गए दूल्हे और सात दोस्तों सहित चौबीस लोगों को पहुंचाया जेल

उधर, एक पश्चिमी विक्षोभ जम्मू-कश्मीर में मौजूद है। दक्षिण-पूर्वी राजस्थान पर एक प्रेरित चक्रवात भी बना हुआ है। इससे हवा का रूख भी बार-बार बदलने लगा है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक बुधवार को ग्वालियर, चंबल, सागर, भोपाल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं बारिश होने की संभावना है। शेष स्थानों पर मौसम शुष्क रहने के आसार हैं। उधर एक अन्य पश्चिमी विक्षोभ वर्तमान में अफगानिस्तान और उससे लगे पाकिस्तान पर सक्रिय है। इस सिस्टम के भी गुरूवार शाम तक उत्तर भारत में पहुंचने की संभावना है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।