MP के शासकीय सेवकों को CM ने दिया तोहफा, देय वार्षिक वेतन वृद्धि को लेकर दिया आदेश

MP के शासकीय सेवकों को CM ने दिया तोहफा, देय वार्षिक वेतन वृद्धि को लेकर दिया आदेश

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी कर्मचारियों और अधिकारियों को रक्षाबंधन से पूर्व बड़ा तोहफा दिया है। उनके निर्देश पर शासकीय सेवकों को 1 जुलाई 2020 एवं 1 जनवरी 2021 को 2 वार्षिक वेतन वृद्धि मिलेगी।

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी कर्मचारियों और अधिकारियों को रक्षाबंधन से पूर्व बड़ा तोहफा दिया है। उनके निर्देश पर शासकीय सेवकों को 1 जुलाई 2020 एवं 1 जनवरी 2021 को 2 वार्षिक वेतन वृद्धि मिलेगी।  वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा ने कहा कि प्रदेश सरकार कर्मचारी हितैषी है प्रदेश के शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों को मिलने वाले सभी स्वत्यों को नियमानुसार दिया जायेगा।

इसे भी पढ़ें:प्रदेश में तबादले की आड़ में चल रही है ठगी कमाई , खुद को मंत्री का पीए बता कर ली 40 हजार की रिश्वत 

आपको बता दें कि वित्त विभाग ने स्पष्ट किया है वाषिक वेतन वृद्धि जुलाई / जनवरी माह में देय होती है। चूंकि राज्य शासन द्वारा वेतन वृद्धि को स्थगित करने या रोकने के आदेश नहीं किये गये हैं। इसलिये शासकीय सेवकों को वार्षिक वेतन वृद्धियों का भुगतान पात्रता के अनुसार किया जायेगा।

जिन शासकीय सेवकों की वार्षिक वेतनवृद्धि जनवरी 2022 में देय होगी उनके संबंध में भी गणना के निर्देश दिए हैं। जुलाई 2020 /जनवरी 2021 की वेतन वृद्धि के वित्तीय लाभ/ एरियर्स की राशि के संबंध में अलग से निर्णय लिया जायेगा।

इसे भी पढ़ें:मध्यप्रदेश में बढ़ती जा रही है रिश्वतखोरी, दो जिलों में हुई लोकायुक्त की कार्यवाही 

वहीं वेतनवृद्धि के लिये जो फार्मूला वित्त विभाग ने दिया है उसके अनुसार यदि शासकीय सेवक का वेतनमान लेवल 12 (56100-177500) है और जून 2020 में मूल वेतन रूपये 69000 है तो एक जुलाई 2020 में काल्पनिक वार्षिक वेतनवृद्धि 71100 होगी (जिसका वास्तविक भुगतान नहीं हुआ) और एक जुलाई 2021 को देय वार्षिक वेतन वृद्धि रूपये 73200 (जुलाई 2020 की काल्पनिक वेतनवृद्धि शामिल करते हुए) प्रदाय की जायेगी। जिन शासकीय सेवकों की वार्षिक वेतनवृद्धि जनवरी 2022 में देय होगी उनकी गणना भी इसी अनुसार की जायेगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।