CM शिवराज ने दिग्विजय के ट्वीट पर किया पलटवार, कहा- उनकी मानसिकता तालिबानी है

CM शिवराज ने दिग्विजय के ट्वीट पर किया पलटवार, कहा- उनकी मानसिकता तालिबानी है

मुख्यमंत्री ने दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर जवाब देते हुए कहा कि 'उनकी मानसिकता तालिबानी है.' दरअसल, दिग्विजय ने ट्वीट पर एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा था कि 'भारतीय अधिकारी चुपचाप तालिबान नेताओं से मिलने जाते हैं'।

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि पर राजधानी में पौधारोपण किया है। इस बीच मुख्यमंत्री ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर जवाब देते हुए कहा कि 'उनकी मानसिकता तालिबानी है.' दरअसल, दिग्विजय ने ट्वीट पर एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा था कि 'भारतीय अधिकारी चुपचाप तालिबान नेताओं से मिलने जाते हैं'। 

इसे भी पढ़ें: CM शिवराज ने वैक्सीनशन महाअभियान पर जनता को दी बधाई,कहा- अगर ऐसे ही चलता रहा तो जल्द खोल सकेंगे स्कूल और कॉलेज 

दरअसल, दिग्विजय सिंह ने मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए ट्वीट किया कि 'तालिबान नेताओं से मिलने के लिए भारतीय अधिकारियों का चुपचाप दौरा' यह बहुत ही गंभीर विषय है। उन्होंने आगे लिखा कि, "भारत सरकार को इस विषय पर तत्काल वक्तव्य देना चाहिए. क्या BJP IT Cell इसको संज्ञान में ले कर राष्ट्र द्रोह की श्रेणी में लेगा?"

वहीं इससे पहले उन्होंन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि 'मोदी जी घोषणा करने व निर्णय लेने के पहले सोचते नहीं है, चाहे नोटबंदी हो या जीएसटी को लागू करना हो, कोरोना को पैंडेमिक डिक्लीयर करने के साथ ही उसे डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के अंतर्गत राष्ट्रीय आपदा घोषित कर दिया और कोरोना से मृत्यु होने पर हर परिवार को चार लाख रुपये देने का वादा कर दिया। 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री शिवराज ने 'टीका नहीं तो संजीवनी नहीं' का दिया नारा, सहयोग के लिए कमलनाथ को दी बधाई 

दिग्विजय सिंह ने अगले ट्वीट में लिखा घोषणा करने के कुछ समय के बाद ही मृत परिवार को चार लाख रुपये देने का प्रावधान ही हटा दिया। बहाना क्या है? शासन के पास धन की कमी है? प्रधानमंत्री व उप राष्ट्रपति के आलीशान भवन सेंट्रल विस्टा व नए संसद भवन बनाने के लिए हजारों करोड़ हैं, लेकिन कोरोना से मृत परिवारों के लिए नहीं है?





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।