तटरक्षक ने तीन राज्यों के बाढ़ प्रभावित जिलों से 215 लोगों को बचाया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 26, 2021   11:34
तटरक्षक ने तीन राज्यों के बाढ़ प्रभावित जिलों से 215 लोगों को बचाया

भारतीय तटरक्षक (आईसीजी) ने पिछले एक सप्ताह में महाराष्ट्र, कर्नाटक और गोवा के भारी बारिश के कारण बाढ़ से प्रभावित जिलों में 215 लोगों को बचाया है। यह जानकारी रविवार को जारी एक आधिकारिक बयान से मिली।

नयी दिल्ली। भारतीय तटरक्षक (आईसीजी) ने पिछले एक सप्ताह में महाराष्ट्र, कर्नाटक और गोवा के भारी बारिश के कारण बाढ़ से प्रभावित जिलों में 215 लोगों को बचाया है। यह जानकारी रविवार को जारी एक आधिकारिक बयान से मिली। बयान में कहा गया है कि आईसीजी के आपदा राहत दल (डीआरटी) उन क्षेत्रों में पहुंचे, जो बाढ़ का पानी भरने के कारण पहुंच से बाहर हो गए हैं, विशेष रूप से महाराष्ट्र के चिपलून और महाड जिले और कर्नाटक के उत्तर कन्नड़ जिले के उमलिजूग, खड़गेजूग, बोडजुग द्वीप और किन्नर गांव।

इसे भी पढ़ें: नाइजीरिया में हथियारों के दम पर 120 से ज्यादा स्कूली छात्रों को किया गया अगवा, अब तक 28 छोड़ा गया

आईसीजी के बयान में कहा गया है कि समर्पित प्रयासों के साथ, डीआरटी ने इन क्षेत्रों में फंसे लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला और आवश्यक राहत सामग्री उपलब्ध करायी। गोवा में, आईसीजी के विमानों ने गंजेम बांध, उसगांव और कोडली क्षेत्रों का हवाई आकलन किया है। बयान में कहा गया है कि आईसीजी के हेलीकॉप्टर ने फंसे हुए लोगों के लिए भोजन के पैकेट और पीने के पानी सहित लगभग 100 किलोग्राम राहत सामग्री गिरायी है।

इसे भी पढ़ें: नाइजीरिया में हथियारों के दम पर 120 से ज्यादा स्कूली छात्रों को किया गया अगवा, अब तक 28 छोड़ा गया

बयान में कहा गया है, ‘‘आईसीजी के प्रयासों से इन तीन राज्यों में आज तक मौजूदा बचाव अभियान के तहत 215 लोगों की कीमती जान बचाने में मदद मिली है।’’ बयान में कहा गया है कि रत्नागिरी में आईसीजी के हवाई स्टेशन की सेवाओं को राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की टीमों को हवाई मार्ग से ले जाने, राहत सामग्री और प्रभावित क्षेत्रों में बचाव कार्यों को सुविधाजनक बनाने के लिए भारतीय नौसेना और भारतीय वायुसेना (आईएएफ) के विमानों तक भी विस्तारित किया जा रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।