गुजरात विस चुनाव में 50 पाटीदारों को टिकट दे भाजपा: समुदाय के नेता

Gujarat
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
पाटीदारों के एक प्रमुख नेता ने सोमवार को मांग की कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) इस साल के अंत में होने वाले गुजरात विधानसभा चुनावों में समुदाय के लोगों को कम से कम 50 टिकट दे।जामनगर में सिदसर उमिया धाम ट्रस्ट के अध्यक्ष जयराम पटेल ने कहा कि पटेल या पाटीदार मतदाता 50 सीटों पर बहुमत में हैं, जबकि बहुमत नहीं होने के बावजूद वे 25 सीटों पर निर्णायक स्थिति में हैं।

अहमदाबाद, 2 अगस्त। पाटीदारों के एक प्रमुख नेता ने सोमवार को मांग की कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) इस साल के अंत में होने वाले गुजरात विधानसभा चुनावों में समुदाय के लोगों को कम से कम 50 टिकट दे। जामनगर में सिदसर उमिया धाम ट्रस्ट के अध्यक्ष जयराम पटेल ने कहा कि पटेल या पाटीदार मतदाता 50 सीटों पर बहुमत में हैं, जबकि बहुमत नहीं होने के बावजूद वे 25 सीटों पर निर्णायक स्थिति में हैं।

पटेल ने अहमदाबाद में संवाददाताओं से कहा, ‘‘इसलिए पाटीदारों को लगता है कि भाजपा को आगामी चुनावों में समुदाय से कम से कम 50 उम्मीदवार बनाने चाहिए। यह हमारी मांग है और सभी को ऐसा करने का अधिकार है। आखिरकार, वह पार्टी है जो हमारी मांग पर अंतिम फैसला करेगी।’’ पटेल ने हालांकि कहा कि उन्हें विश्वास है कि भाजपा समुदाय के लिए 50 सीटों की मांग का सम्मान करेगी क्योंकि उसने 2017 के चुनावों में भी उतनी ही सीटें दी थीं, जबकि कांग्रेस के लिए यह आंकड़ा 35 था।

पटेल ने कहा, ‘‘पाटीदार आरक्षण आंदोलन के कारण, भाजपा द्वारा मैदान में उतारे गए 50 में से 35 पाटीदार जीते थे। आमतौर पर, यह औसत 40 रहा है। हम यह भी चाहते हैं कि पार्टी राजकोट पश्चिम सीट पर एक पाटीदार को मैदान में उतारे, जहां पाटीदार मतदाता बहुमत में हैं।’’ राजकोट पश्चिम सीट वर्तमान में पूर्व मुख्यमंत्री विजय रूपानी के पास है, जो एक जैन हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि अगर रूपानी को फिर से मैदान में उतारा जाता है तो समुदाय कोई आपत्ति नहीं करेगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़