गोवा में कांग्रेस और भाजपा मुख्य प्रतिद्वंद्वी, आप और तृणमूल भाजपा विरोधी वोट बांटेंगे: चिदंबरम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 13, 2022   15:38
गोवा में कांग्रेस और भाजपा मुख्य प्रतिद्वंद्वी, आप और तृणमूल भाजपा विरोधी वोट बांटेंगे: चिदंबरम

गोवा में कांग्रेस के लिए चुनाव पर्यवेक्षक की भूमिका निभा रहे चिदंबरम ने यह भी कहा कि कुछ दिनों पहले तृणमूल ने गठबंधन को लेकर संकेत दिया था और कांग्रेस नेतृत्व उसकी इस मंशा से अवगत है। उनके अनुसार, हो सकता है कि इस पर जवाब दिया गया हो, लेकिन इस बारे में उनके पास आधिकारिक रूप से कोई निर्देश नहीं आया है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने बृहपस्पतिवार को कहा कि गोवा विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) मुख्य प्रतिद्वंद्वी हैं और अगर आम आदमी पार्टी तथा तृणमूल कांग्रेस कुछ वोट हासिल भी कर लेंगी तो भी वे भाजपा विरोधी मतों को ही बांटेंगी। गोवा में कांग्रेस के लिए चुनाव पर्यवेक्षक की भूमिका निभा रहे चिदंबरम ने यह भी कहा कि कुछ दिनों पहले तृणमूल ने गठबंधन को लेकर संकेत दिया था और कांग्रेस नेतृत्व उसकी इस मंशा से अवगत है। उनके अनुसार, हो सकता है कि इस पर जवाब दिया गया हो, लेकिन इस बारे में उनके पास आधिकारिक रूप से कोई निर्देश नहीं आया है। उन्होंने कहा कि गोवा में भाजपा के खिलाफ व्यापक माहौल है और सत्ता विरोधी बयार बह रही है तथा उनकी पार्टी गोवा के लोगों से यह अपील करेगी कि ‘‘गोवा पर गोवावासियों का ही शासन होना चाहिए।’’ 

इसे भी पढ़ें: माइकल लोबो के पार्टी छोड़ने पर बोले फडणवीस, उन्हें निराशा होगी, गोवा में फिर बनेगी भाजपा सरकार

चिदंबरम ने कहा, ‘‘हमारे पास ये विश्वसनीय खबरें आईं कि तृणमूल कांग्रेस हमारे ब्लॉक स्तर के नेताओं, सरपंचों समेत कई सदस्यों को अपने साथ लेने के लिए प्रयासरत है।’’ उनका कहना है, ‘‘शुरुआती दिनों में तृणमूल कांग्रेस के महासचिव ने घोषणा की थी कि तृणमूल गोवा की सभी 40 सीटों पर चुनाव लड़ेगी और ऐसा लगता था कि वे इसी लक्ष्य के साथ आक्रामक रुख अपनाए हुए थे। कुछ दिनों पहले तृणमूल ने संकेत दिया कि वह कांग्रेस और अन्य दलों के साथ गठबंधन करना चाहेगी। मुझे लगता है कि एआईसीसी नेतृत्व इससे अवगत होगा और तृणमूल को इस बारे में जवाब दिया गया होगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मेरे पास एआईसीसी की तरफ से आधिकारिक रूप से कोई निर्देश नहीं आया है।’’उन्होंने यह टिप्पणी उस वक्त की है जब कुछ दिनों पहले तृणमूल कांग्रेस की गोवा प्रभारी महुआ मोइत्रा ने विपक्षी एकजुटता को लेकर ट्वीट किया था और कांग्रेस के साथ गठबंधन की कवायद को लेकर संकेत दिया था। बहरहाल, कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने तृणमूल कांग्रेस के साथ गठबंधन को अटकलों को खरिज कर दिया था। गोवा के चुनावी समर में आप और तृणमूल की दावेदारी से जुड़े सवाल पर चिदंबरम ने कहा कि गोवा पर नजर रखने वाला हर व्यक्ति इससे सहमत होगा कि राज्य में दो मुख्य प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस और भाजपा ही हैं। उनके मुताबिक, गोवा में कांग्रेस की जड़ें गहरी हैं और पूरे प्रदेश में कार्यकर्ता हैं तथा लोगों के पास कांग्रेस द्वारा सेवा का लंबा रिकॉर्ड भी है। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस अपने बलबूते गोवा विधानसभा चुनाव नहीं जीत सकती: शिवसेना

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘‘आप पिछले चुनाव में सभी 40 सीटों पर लड़ी थी और उसका खाता नहीं खुला था। तृणमूल कांग्रेस ने पहली बार कदम रखा है। इनके पास कार्यकर्ता नहीं हैं।’’ उन्होंने जोर देकर कहा कि अगर आप और तृणमूल कांग्रेस कुछ वोट हासिल भी कर लेंगी तो वे भाजपा विरोधी मतों को ही बांटेंगी। चिदंबरम ने कहा कि फिलहाल कांग्रेस का गठबंधन गोवा फारवर्ड पार्टी के साथ तय हुआ है और राज्य इकाई कुछ दलों के साथ भी बातचीत कर रही है। पिछले चुनाव में कांग्रेस के सबसे बड़े दल होने के बावजूद सरकार नहीं बना पाने और कई विधायकों के पाला बदलने के सवाल पर उन्होंने 2017-19 के दौरान जो हुआ वह शर्मनाक था और निर्वाचित विधायकों ने पार्टी के साथ विश्वासघात किया। उन्होंने कहा, ‘‘इस बार हमने ब्लॉक कमेटियों से कहा कि वे ब्लॉक स्तर पर बैठक करें, नामों को प्रस्तावित करें तथा इसके लिए सबसे प्रमुख आधार ‘वफादारी’ का होना चाहिए।’’ कांग्रेस नेता ने कहा कि पिछली बार जैसी स्थिति से निपटने के लिए कुछ उपाय किए जा रहे हैं जिनके बारे में उचित समय पर खुलासा किया जाएगा। उन्होंने उम्मीद जताई कि इस बार कोई भी कांग्रेस विधायक पाला नहीं बदलेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।