कांग्रेस की भाजपा या आरएसएस के कोई दुश्मनी नहीं है, लेकिन हिंसा बर्दाश्त नहीं की जानी चाहिये: गहलोत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 9, 2022   09:57
कांग्रेस की भाजपा या आरएसएस के कोई दुश्मनी नहीं है, लेकिन हिंसा बर्दाश्त नहीं की जानी चाहिये: गहलोत
ANI Photo.

गहलोत ने कहा,लेकिन हिंसा को किसी भी रूप मेंबर्दाश्त नहीं करनाचाहिये। उन्होंने कहा, किसी को भी हिंसा को स्वीकार नहीं करना चाहिएऔर जो लोग शासन कर रहे हैं उन्हें इसकी निंदा करनी चाहिए, चाहे वे किसी भी पार्टी, जाति या धर्म के हों। गहलोत ने यह भी आरोप लगाया कि देश में ऐसा माहौल बनाया गया है जो चिंताजनक है।

जयपुर|  राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को कहा कि कांग्रेस की भाजपा या आरएसएस से कोई दुश्मनी नहीं है लेकिन हिंसा को किसी भी रूप में बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए। गहलोत ने रविवार को सांगानेर के पिंजरापोल गौशाला में एक समारोह को संबोधित करते हुए कहा, आरएसएस के लोग हाल ही में मुझसे मिलने आए थे।

मैंने उनसे कहा था कि वे आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत जी और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को मेरा संदेश दें। उन्हें देश की जनता को यह संदेश देना चाहिए कि हमें सब कुछ मंजूर है। हमें उनसे कोई दुश्मनी नहीं है और न ही होनी चाहिए।

गहलोत ने कहा, लेकिन हिंसा को किसी भी रूप में बर्दाश्त नहीं करना चाहिये। उन्होंने कहा, किसी को भी हिंसा को स्वीकार नहीं करना चाहिए और जो लोग शासन कर रहे हैं उन्हें इसकी निंदा करनी चाहिए, चाहे वे किसी भी पार्टी, जाति या धर्म के हों। गहलोत ने यह भी आरोप लगाया कि देश में ऐसा माहौल बनाया गया है जो चिंताजनक है।

इस अवसर पर गहलोत ने यह भी घोषणा की कि राज्य में गौशालाओं को केवल छह महीने के अनुदान के वर्तमान प्रावधान के बजाय प्रत्येक वर्ष नौ महीने के लिए सरकारी अनुदान मिलेगा।

उन्होंने कहा कि बेसहारा गायों को आश्रय प्रदान करने के लिए राज्य सरकार द्वारा 1.56 करोड़ रुपये के अनुदान से प्रत्येक ब्लॉक में नंदी शालाएं (गोशालाएं) खोली जा रही हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।