सर्जिकल स्ट्राइक के चार साल पूरे होने वाले दिन कांग्रेस टुकड़े-टुकडे गैंग और देशद्रोह के आरोपी को कराएगी पार्टी में शामिल!

सर्जिकल स्ट्राइक के चार साल पूरे होने वाले दिन कांग्रेस टुकड़े-टुकडे गैंग और देशद्रोह के आरोपी को कराएगी पार्टी में शामिल!

आज ही के दिन देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस में दो नेताओं के आगमन को लेकर चर्चा खूब तेज हैं। कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवानी आज कांग्रेस में शामिल होने वाले हैं। सूत्रों के अनुसार इनके कांग्रेस में शामिल होने के वक्त राहुल गांधी मौजूद रह सकते हैं।

भारतीय इतिहास में 28 सितंबर की तारीख उस दिन के तौर पर याद की जाएगी जब मोदी सरकार ने आतंकी ठिकानों को तबाह करने के लिए 'सर्जिकल स्ट्राइक' जैसे कदम उठाए और स्पेशल फोर्स के कमांडोज ने पाकिस्तान को उसके घर में घुसकर मारा। आज सर्जिकल स्ट्राइक की चौथी वर्षगांठ मना रही है। लेकिन आज ही के दिन देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस में दो नेताओं के आगमन को लेकर चर्चा खूब तेज हैं। कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवानी आज कांग्रेस में शामिल होने वाले हैं। सूत्रों के अनुसार इनके कांग्रेस में शामिल होने के वक्त राहुल गांधी मौजूद रह सकते हैं। कांग्रेस दफ्तर में दोनों नये नेताओं के स्वागत वाले पोस्टर भी टंग चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: कन्हैया कुमार को लेकर मनीष तिवारी का तंज, बोले- 'कम्युनिस्ट्स इन कांग्रेस' के पन्ने फिर से पलटे जाएं

बीजेपी ने कहा- टुकड़े गैंग को कांग्रेस शामिल कर रही  

आपको वो दिन भी याद होंगे वो भाषण भी याद होंगे जिसके लेकर देश-दुनिया में खूब बवाल हुआ था। जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार पर देशद्रोह के आरोप लगे थे और उन्हें जेल भी जाना पड़ा था। बीजेपी की तरफ से कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि, टुकड़े गैंग को कांग्रेस शामिल कर रही है। 

सर्जिकल स्ट्राइक के चार साल 

आज ही के दिन भारतीय सेना ने जिस सर्जिकल स्ट्राइक को पाकिस्तान नामुमकिन बता रहा था उसे बेखौफ होकर अंजाम दिया। वो स्पेशल फोर्स के कमांडो ही थे जो एलओसी पार करके पीओके में दाखिल हुए कई किलोमीटर रेंग कर आतंक के अड्डे तक पहुंचे और उन्हें नेस्तोनाबूद कर दिया। इस हमले में भारतीय सेना ने पाकिस्तानी आतंकवादियों के छह लॉन्चपैड को तबाह कर दिया था और करीब 45 आतंकी इस कार्रवाई में मारे गए थे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।