कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी बोले, राजस्थान के राज्यपाल राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने का रास्ता तलाश रहे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 29, 2020   10:25
कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी बोले, राजस्थान के राज्यपाल राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने का रास्ता तलाश रहे

राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने कांग्रेस शासित राज्य में विधानसभा सत्र बुलाने के लिए मंत्रिमंडल की सिफारिशों को खारिज कर दिया। लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने ट्विटर पर कहा, ‘‘राजस्थान के राज्यपाल ने आगे 21 दिनों के लिए सदन की कार्यवाही रोक दी है।

कोलकाता। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अधीर रंजन चौधरी ने राजस्थान विधानसभा सत्र के लिए प्रस्ताव खारिज करने को लेकर मंगलवार को वहां के राज्यपाल कलराज मिश्र की आलोचना की। साथ ही, उन्होंने कहा कि राज्यपाल की कार्रवाई से संकेत मिलाता है कि वह राज्य में राष्ट्रपति शासन थोपने का रास्ता तलाश रहे हैं। राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने कांग्रेस शासित राज्य में विधानसभा सत्र बुलाने के लिए मंत्रिमंडल की सिफारिशों को खारिज कर दिया। लोकसभा में कांग्रेस के नेता चौधरी ने ट्विटर पर कहा, ‘‘राजस्थान के राज्यपाल ने आगे 21 दिनों के लिए सदन की कार्यवाही रोक दी है। 

इसे भी पढ़ें: राजस्थान: भाजपा विधायक ने विधानसभा अध्यक्ष के फैसले के खिलाफ दो याचिकाएं दायर कीं

निश्चित तौर पर भाजपा को इससे अपनी स्थिति मजबूत करने में मदद मिलेगी।’’ पश्चिम बंगाल के बहरामपुर निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा सदस्य ने कहा, ‘‘कांग्रेस और उसके सहयोगी किसी भी साजिश को नाकाम करने के लिए दृढ़ हैं। कलराज जी की कला काबिले तारीफ जरूर है।’’ कांग्रेस नेता ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘राजस्थान के माननीय राज्यपाल, आपके कदमों से संकेत मिलता है कि आप राजस्थान में (अनुच्छेद) 356 (राष्ट्रपति शासन) लागू करने का रास्ता तलाश रहे हैं और राजस्थान को हथियाना चाहते हैं। मत भूलिए राजस्थान योद्धाओं की भूमि है। राणा प्रताप से लेकर पन्ना धाय का जन्म वहीं हुआ था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।