कांग्रेस के नेता ट्वीट कर जनता को कर रहे है गुमराह: विश्वास सारंग

कांग्रेस के नेता ट्वीट कर जनता को कर रहे है गुमराह: विश्वास सारंग

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने कांग्रेस नेता जयराम रमेश, पी चिदंबरम और कमलनाथ के ट्वीट से उठाए गए सवालों पर पलटवार किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता असत्य ट्वीट करके भ्रम फैला रहे हैं।

भोपाल। मध्यप्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने कांग्रेस नेता जयराम रमेश, पी चिदंबरम और कमलनाथ के ट्वीट से उठाए गए सवालों पर पलटवार किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता असत्य ट्वीट करके भ्रम फैला रहे हैं। 20 और 22 जून को प्रदेश में वैक्सीनेशन डे नहीं था। उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि सरकार ने जनवरी में ही वैक्सीनेशन प्रोग्राम डिक्लेअर कर दिया था। जिसमें सोमवार, बुधवार, गुरुवार और शनिवार को वैक्सीनेशन होगा और मंगलवार और शुक्रवार को बच्चों का वैक्सीनेशन प्रोग्राम चलेगा। रविवार को छुट्टी रहेगी।

इसे भी पढ़ें:कांग्रेस डूबता हुआ जहाज है और ऐसे ही डूबता रहेगा,जनता बार-बार दिखा रहीं है इन्हें आईना: ज्योतिरादित्य सिंधिया 

मंत्री सारंग ने कहा कि कांग्रेस के नेताओ ने अपने दिव्य ज्ञान को प्रकट करते हुए वैक्सीनेशन महा अभियान पर भ्रम फैलाने वाले ट्वीट किए है। देश मे इतने बड़े बड़े पदो पर रहने के बाद भी कांग्रेस के नेता झूठे आंकड़े दे कर जनता को गुमराह कर जनता की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। कांग्रेस के नेताओ का ट्वीट जनता के खिलाफ है, मैं मांग करता हूं कांग्रेस के नेता अपने यह ट्वीट डिलीट करें और जनता से माफी माँगें।

इसे भी पढ़ें:वैक्सीन लगवाओ, पेट्रोल मुफ्त पाओ, भोपाल कांग्रेस ने शुरू की अनूठी पहल 

मंत्री सारंग ने कहा कि रविवार और मंगलवार को प्राइवेट सेक्टर में जो वैक्सीनेशन हुआ है उसकी संख्या कांग्रेस के नेताओं ने जारी कर अनर्गल आरोप लगाये हैं। यह आंकड़े बताकर जनता को गुमराह किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बुधवार को हमारा वैक्सीन डे है और बुधवार को दोपहर 3 बजे तक मध्यप्रदेश में 6 लाख 38 हजार लोगों को वैक्सीन लगाकर प्रथम स्थान पर है और यूपी में अभी तक लगभग 3 लाख वैक्सीन लगी है, जो दूसरे नंबर पर है ।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।