सिद्धू के सामने और नहीं झुकेगी कांग्रेस, नए प्रदेश अध्यक्ष के लिए मंथन शुरू

सिद्धू के सामने और नहीं झुकेगी कांग्रेस, नए प्रदेश अध्यक्ष के लिए मंथन शुरू

आलाकमान ने पहले सिद्धू को मनाने के लिए सोचा था। परंतु अब ऐसा लगता है कि आलाकमान ने प्रदेश अध्यक्ष के लिए मंथन शुरू कर चुका है। पहले खबर थी कि पंजाब प्रभारी हरीश रावत सिद्धू को मनाने के लिए चंडीगढ़ जाने वाले हैं।

पंजाब कांग्रेस का विवाद अभी खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। इन सब के बीच अचानक नवजोत सिंह सिद्धू ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। सिद्धू के इस्तीफे की मुख्य वजह अब तक सामने तो नहीं आ पाई है। लेकिन बताया जा रहा है कि वह अपने करीबी अधिकारियों और नेताओं को अहम मंत्रालय में जिम्मेदारी दिलाना चाहते थे। दूसरी ओर खबर यह थी कि आलाकमान ने सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है। साथ ही साथ कहा जा रहा था कि सिद्धू को मनाने की कोशिश की जाएगी। हालांकि सूत्रों के मुताबिक यह कहा जा रहा है कि अब आलाकमान सिद्धू के आगे और झुकने को तैयार नहीं है।

आलाकमान ने पहले सिद्धू को मनाने के लिए सोचा था। परंतु अब ऐसा लगता है कि आलाकमान ने प्रदेश अध्यक्ष के लिए मंथन शुरू कर चुका है। पहले खबर थी कि पंजाब प्रभारी हरीश रावत सिद्धू को मनाने के लिए चंडीगढ़ जाने वाले हैं। लेकिन अब उनका यह दौरा रद्द हो चुका है। प्रदेश अध्यक्ष पद की रेस में कुलजीत नागरा का नाम सबसे आगे चल रहा है। इसके अलावा लुधियाना से सांसद रवनीत बिट्टू भी प्रदेश अध्यक्ष की रेस में है। सिद्धू के इस्तीफे के कुछ ही घंटे बाद चरणजीत सिंह चन्नी के नेतृत्व में 18 सदस्यीय नये मंत्रिमंडल में शामिल रजिया सुल्ताना ने भी पूर्व क्रिकेटर के साथ एकजुटता व्यक्त करते हुए अपना इस्तीफा दे दिया। 

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi's Newsroom । कांग्रेस के हुए कन्हैया मगर जिग्नेश नहीं हो पाए शामिल, बोले- वैचारिक तौर पर साथ हूं

आपको बता दें कि पंजाब की कांग्रेस इकाई के महासचिव योगिन्दर ढिंगरा और कोषाध्यक्ष गुलजार इंदर चहल ने भी अपने पदों से इस्तीफा दे दिया है। इस राजनीतिक संकट के बीच कई नेता आज सिद्धू के पटियाला स्थिति आवास पर उनसे मिलने भी पहुंचे। राज्य में नयी मंत्रिपरिषद के सदस्यों को विभागों के आवंटन के तुरंत बाद सिद्धू (57) ने पद छोड़ दिया। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे पत्र में सिद्धू ने कहा है कि वह पार्टी की सेवा करना जारी रखेंगे। सिद्धू ने अमरिंदर सिंह के साथ नेतृत्व को लेकर खींचतान के बीच इसी साल जुलाई में पार्टी की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष का पद संभाला था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।