कांग्रेस कार्य समिति की बैठक आरंभ, नए अध्यक्ष को लेकर स्थिति स्पष्ट होने की संभावना

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   11:32
  • Like
कांग्रेस कार्य समिति की बैठक आरंभ, नए अध्यक्ष को लेकर स्थिति स्पष्ट होने की संभावना

कांग्रेस की शीर्ष नीति निर्धारण इकाई कांग्रेस कार्य समिति (सीडल्यूसी) की बैठक शुक्रवार को आरंभ हुई जिसमें पार्टी के नए अध्यक्ष के चुनाव को लेकर स्थिति स्पष्ट होने की संभावना है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस की शीर्ष नीति निर्धारण इकाई कांग्रेस कार्य समिति (सीडल्यूसी) की बैठक शुक्रवार को आरंभ हुई जिसमें पार्टी के नए अध्यक्ष के चुनाव को लेकर स्थिति स्पष्ट होने की संभावना है। सूत्रों ने बताया कि इस बैठक में नए अध्यक्ष के चुनाव के साथ साथ किसान आंदोलन और कुछ अन्य मुद्दों पर भी चर्चा हो सकती है। माना जा रहा है कि इस बैठक में अध्यक्ष के चुनाव को हरी झंडी दी जा सकती है और चुनाव तिथि का ऐलान भी हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: राहुल गांधी ने कर्नाटक विस्फोट पर जताया दुख, बोले- इस तरह की घटनाओं की होनी चाहिए गहन जांच

गौरतलब है कि पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। बिहार विधानसभा चुनाव और कुछ राज्यों के उप चुनावों में कांग्रेस के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल जैसे कुछ वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी के सक्रिय अध्यक्ष की नियुक्ति की मांग फिर उठाई।

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी ने असदुद्दीन ओवैसी को बताया भाजपा की 'बी टीम', बोलीं- बंगाल में नहीं होगा कोई असर

वैसे, कांग्रेस नेताओं का एक बड़ा धड़ा लंबे समय से इस बात की पैरवी कर रहा है कि राहुल गांधी को फिर से कांग्रेस की कमान संभालनी चाहिए। कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने हाल ही में कहा था कि कांग्रेस के 99.99 प्रतिशत लोग चाहते हैं कि राहुल गांधी फिर से उनका नेतृत्व करें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


राष्ट्रपति के मध्य प्रदेश प्रवास को लेकर तैयारियां शुरू, 6 और 7 मार्च को है प्रस्तावित यात्रा

  •  दिनेश शुक्ल
  •  फरवरी 26, 2021   21:57
  • Like
राष्ट्रपति के मध्य प्रदेश प्रवास को लेकर तैयारियां शुरू, 6 और 7  मार्च को है प्रस्तावित यात्रा

राष्ट्रपति 6 और 7 मार्च को मध्य प्रदेश के प्रवास पर रहेंगे। इस दौरान वह न्यायिक एकेडमि के मानस भवन में होने वाले कार्यक्रम में शामिल होंगे। वही अगले दिन 07 मार्च को वह दमोह जाएगें जहाँ वह सिंगौरगढ़ किला सहित पर्यटन स्थलों के विकास कार्यों की आधारशिला रखेंगे।

जबलपुर। मध्य प्रदेश में जबलपुर और दमोह की दो दिवसीय यात्रा पर आ रहे देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के प्रवास की तैयारियों को लेकर शुक्रवार को कमिश्नर बी.चंद्रशेखर की अध्यक्षता में कलेक्टर सभागार में बैठक आयोजित की गई। राष्ट्रपति 6 और 7 मार्च को मध्य प्रदेश के प्रवास पर रहेंगे। इस दौरान वह न्यायिक एकेडमि के मानस भवन में होने वाले कार्यक्रम में शामिल होंगे। वही अगले दिन 07 मार्च को वह दमोह जाएगें जहाँ वह सिंगौरगढ़ किला सहित पर्यटन स्थलों के विकास कार्यों की आधारशिला रखेंगे। 

इसे भी पढ़ें: चौरसिया के आने से कांग्रेस में बवाल, अरुण यादव ने साधा कमलनाथ पर निशाना

राष्ट्रपति के 6 और 7 मार्च के प्रस्तावित दौरे को लेकर कमिश्नर की अध्यक्षता में हुई बैठक के दौरान आईजी बीएस चौहान,कलेक्टर कर्मवीर शर्मा, पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुश्री रिजु बाफना, अपर कलेक्टर हर्ष दीक्षित, राजेश बाथम, नगर निगम कमिश्नर संदीप जीआर सेना व न्यायिक अधिकारी सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़ें: खजुराहो नृत्य समारोह का समापन आज, मणिपुरी-ओडिसी और भरतनाट्यम की होंगी प्रस्तुतियां

राष्ट्रपति के दौरे को लेकर आयोजित बैठक के दौरान रूट प्लान, वाहन पार्किंग, बेरिकेटिंग, अतिथियों की रुकने की व्यवस्था व लायजिनिंग, विद्युत व्यवस्था, वाहन चालको के कोविड टेस्ट कराने के साथ राष्ट्रपति प्रवास के संपूर्ण व्यवस्था बेहतरीन करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए गए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


चौरसिया के आने से कांग्रेस में बवाल, अरुण यादव ने साधा कमलनाथ पर निशाना

  •  दिनेश शुक्ल
  •  फरवरी 26, 2021   21:32
  • Like
चौरसिया के आने से कांग्रेस में बवाल, अरुण यादव ने साधा कमलनाथ पर निशाना

वही दिग्विजय सिंह के भाई और कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने भी ट्वीट कर लिखा कि- गोडसे के उपासकों के लिए सेंट्रल जेल उपयुक्त स्थान है,कांग्रेस पार्टी नहीं। ग्रह मंत्रालय भी गोडसे समर्थकों की गतिविधियों पर नजर रखे तो उचित होगा।

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस में हिंदू महासभा के नेता बाबूलाल चौरसिया के आने से पार्टी में बवाल खड़ा हो गया है। इसको लेकर कांग्रेस में खुलकर विरोध हो रहा है। पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने बाबूलाल को पार्टी में शामिल करने को लेकर कमलनाथ पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि - हम गोडसे नहीं गांधी की विचारधारा की पूजा करते हैं।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में रात्रि कर्फ्यू को लेकर गृहमंत्री का बड़ा बयान, महाराष्ट्र से सटे 12 जिलों के लिए अलर्ट जारी

हिंदू महासभा के नेता बाबूलाल चौरसिया के कांग्रेस में आने पर पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने विरोध जताया है। उन्होंने एक वीडियो और पत्र जारी करके कहा है कि कांग्रेस गांधीवादी विचारधारा की पार्टी है। इस देश की आजादी में गांधी की विचारधारा पर लड़ाई लड़ी और देश को आजाद कराया, जो कांग्रेस और देश का मूल मंत्र है। इसी विचारधारा ने देश में सरकारें बनाई और आगे भी यही विचारधारा चलने वाली है।

 

इसे भी पढ़ें: जीएसटी के खिलाफ कैट के भारत व्यापार बंद में मध्य प्रदेश भी शामिल

अरूण यादव ने कहा कि सत्य और अहिंसा का जो मार्ग गांधी ने अपनाया था, उसी में देश आगे चलेगा। यादव ने कहा है कि दो विचारधाराएं देश में काम करती हैं, एक गांधी और एक गोडसे की। हत्यारे गोडसे का मंदिर बनाना और उसकी पूजा करना,  उसे गांधी की विचारधारा से मेल मिलाप कराना मुझे उचित नहीं लगा और इसलिए मैंने अपने विचार रखे। यह सिर्फ मेरे नहीं बल्कि कांग्रेस के लाखों कार्यकर्ताओं के विचार भी हैं। उन्होंने आगे कहा कि - महात्मा गांधी की विचारधारा के हत्यारे के खिलाफ मैं चुप नहीं रहूंगा। मेरी आवाज कांग्रेस और गांधी विचारधारा को समर्पित एक सच्चे कांग्रेस कार्यकर्ता की आवाज है।

 

इसे भी पढ़ें: खजुराहो नृत्य समारोह का समापन आज, मणिपुरी-ओडिसी और भरतनाट्यम की होंगी प्रस्तुतियां

अरुण यादव ने सीधे-सीधे प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष कमलनाथ पर सवाल उठाए है। उन्होंने लिखा है कि अपनी ही सरकार में कमलनाथ ने इन्हीं बाबूलाल चौरसिया और उनके सहयोगियों का ग्वालियर में गोडसे का मंदिर बनाने और पूजा करने के विरोध में एफआईआर  दर्ज करने का निर्देश दिया था। वही दिग्विजय सिंह के भाई और कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने भी ट्वीट कर लिखा कि- गोडसे के उपासकों के लिए सेंट्रल जेल उपयुक्त स्थान है,कांग्रेस पार्टी नहीं। ग्रह मंत्रालय भी गोडसे समर्थकों की गतिविधियों पर नजर रखे तो उचित होगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


चुनावों में तैनात हर कर्मी को कोविड-19 का टीका लगाना होगा: निर्वाचन आयोग

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2021   20:59
  • Like
चुनावों में तैनात हर कर्मी को कोविड-19 का टीका लगाना होगा: निर्वाचन आयोग

मतों की गिनती दो मई को होगी। मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि चार राज्यों व केंद्र शासित पुडुचेरी को मिलाकर कुल 824 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होगा और इस दौरान कुल 18.68 करोड़ मतदाता 2.7 लाख मतदान केंद्रों पर मतदान करने के पात्र होंगे।

नयी दिल्ली। निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को कहा कि आगामी विधानसभा चुनावों में तैनात हर कर्मी का कोविड-19 का टीकाकरण किया जाएगा। निर्वाचन आयोग ने आज पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, असम, केरल और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया। इन चार राज्यों व केंद्र शासित पुडुचेरी में 27 मार्च से 29 अप्रैल के बीच अलग-अलग चरणों में मतदान संपन्न होगा। मतों की गिनती दो मई को होगी। मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि चार राज्यों व केंद्र शासित पुडुचेरी को मिलाकर कुल 824 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होगा और इस दौरान कुल 18.68 करोड़ मतदाता 2.7 लाख मतदान केंद्रों पर मतदान करने के पात्र होंगे।

पश्चिम बंगाल में 27 मार्च से 29 अप्रैल के बीच आठ चरणों में जबकि असम में 27 मार्च से छह अप्रैल के बीच तीन चरणों में मतदान संपन्न होगा। तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में एक चरण में छह अप्रैल को मतदान होगा। उन्होंने बताया कि पांचों विधानसभा चुनावों में ऑनलाइन नामांकन की सुविधा प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा कि कोविड-19 दिशा-निर्देशों को ध्यान में रखते हुए मतदान के लिए एक घंटे का अतिरिक्त समय दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि संवेदनशील इलाकों में स्थित मतदान केंद्रों में वेबकास्टिंग की व्यवस्था रहेगी और उपुयक्त संख्या में केंद्रीय बलों की तैनाती की जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी संवदेनशील क्षेत्रों की पहचान कर ली गई है और वहां केंद्रीय दलों की तैनाती कर दी गई है। 

इसे भी पढ़ें: ममता का सवाल, क्या चुनाव तिथियां मोदी और शाह के सुझावों के अनुसार घोषित की गईं?

अरोड़ा ने कहा कि घर-घर अभियान में उम्मीदवार सहित पांच से अधिक व्यक्ति नहीं होंगे जबकि रोड शो में पांच से अधिक गाड़ियों की अनुमति नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान से चुनाव संपन्न कराने की स्थितियां अनुकूल हुई हैं और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने चुनावी ड्यूटी पर तैनात हर कर्मी को टीकाकरण के मकसद से अग्रिम मोर्चा का कार्यकर्ता घोषित किया है। उन्होंने कहा कि चुनाव से पहले चुनावी ड्यूटी पर तैनात सभी चुनाव अधिकारियों का टीकाकरण होगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept