कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतूपटवारी ने लिखा प्रधानमंत्री को पत्र, सांसद अनिल फिरोजिया के विरुद्ध कार्यवाहीकरने की माँग

कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतूपटवारी ने लिखा प्रधानमंत्री को पत्र, सांसद अनिल फिरोजिया के विरुद्ध कार्यवाहीकरने की माँग

पटवारी ने प्रधानमंत्री मोदी से लोकसभा अध्यक्ष से सांसद के निलंबन कीअनुशंसा करने की बात लिखी है। उन्होंने लिखा कि प्रधानमंत्री जी अगर आप ऐसा करते है तो भारतीय लोकतंत्र में एक आदर्श स्थापित होगा और लोकतंत्र को और मजबूती प्रदान करेगा।

भोपाल। मध्य प्रदेशकांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष, मीडिया प्रभारी व पूर्व मंत्री जीतू पटवारीने उज्जैन सांसद अनिल फिरोजिया के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही करने की मांग की है। जीतू पटवारी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर सांसद फिरोजिया कोलोकसभा की सदस्यता से निलंबित करने करने की माँग की है। प्रधानमंत्री को लिखे पत्रमें कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने लिखा कि उज्जैन सांसद अनिल फिरोजिया को उनके द्वारा किए गए आलोकतंत्रित कृत्य व लोकप्रतिनिधित्व आचरण विपरीत कार्य करने के लिए लोकसभा की सदस्यता से निलंबित किया जाए। पटवारी ने प्रधानमंत्री मोदी से लोकसभा अध्यक्ष से सांसद के निलंबन कीअनुशंसा करने की बात लिखी है। उन्होंने लिखा कि प्रधानमंत्री जी अगर आप ऐसा करते है तो भारतीय लोकतंत्र में एक आदर्श स्थापित होगा और लोकतंत्र को और मजबूती प्रदान करेगा।

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ का आरोप किसानों के साथ अन्याय कर रही भाजपा सरकार

दरआसल उज्जैन सांसद अनिल फिरोजिया ने अपनेपद और राजनीतिक रसूख का उपयोग कर अपने निज निवास पर परिजनों और कार्यकर्ताओं को टीकाकरण करवाया। यही नहीं अपने घर को ही टीकाकरण केन्द्र बना दिया जो कि अवैधानिक होने के साथ ही महामारी अधिनियम 1897 के तहत लगाए गए लॉकडाउन का उलंघन भी है। उन्होंने सीआरपीसी की धारा 144 का भी उलंघन किया गया है। जिसको लेकर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत जहाँ आम लोगों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत कार्यवाही की जा रही है। जिसको लेकर जीतू पटवारी ने कहा है कि माननीय सांसद महोदय पर भी अपने निज निवास पर भीड़ एकत्र कर टीकाकरण कार्यक्रम की धज्जियां उड़ाने को लेकर कार्यवाही की जानी चाहिए। जीतू पटवारी ने कहा कि जहाँ एक तरफ कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लोग टीकाकरण के लिए अपनी पारी का इंजार कर रहे है, यही नहीं 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए वैक्सीन उपलब्ध न होने के चलते वह टीका लगवाने की बाट जोह रहे है। तो वही टीकाकरण केन्द्रों पर लंबी-लंबी लाइने लगी देखी जा सकती है। जबकि दूसरी ओर उज्जैन से माननीय सांसद अनिल फिरोजिया द्वारा अपने पद और राजनीतिक रसूख का उपयोग कर अपने निज निवास पर परिजनों और कार्यकर्ताओं को टीकाकरण करवाया गया। जो कि सोशल मीडिया सहित समाचार पत्र और इलेक्ट्रानिक मीडिया की सुर्खिया बना हुआ है।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में एक महीने बाद आए कोरोना के 8 हजार से कम केस

कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने कहा कि जहाँ महामारी के इस मुश्किल दौर में कई जनप्रतिनिधि मैदान में उतरकर जनता की सेवा पूरे मनोभाव से करने में लगे है, तो वही कुछ जनप्रतिनिधियों का व्यवहार महामारी के इस मुश्किल दौर में जनता के प्रति न तो न्याय संगत, संवेदनशील व व्यवाहारिक रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा कि मध्य प्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन में तो प्रदेश सरकार के कैबिना मंत्री डॉ. मोहन यादव के प्रतिनिधि द्वारा कोरोना मरीजों की मजबूरी का फायदा उठाकर शासकीय अस्पताल में मोटी राशि लेकर बिस्तर उपलब्ध करवाने का मामला सामने आया था। वही अब उज्जैन संसदीय सीट से माननीय सांसद अनिल फिरोजिया के समर्थकों द्वारा सांसद के निज निवास पर कोरोना टीकाकरण होने के चित्र सोशन मीडिया पर प्रसारित हो रहे है, जो आम लोगों के मन में जनप्रतिनिधियों के लिए गलत भाव पैदा कर रहे है। जीतू पटवारी ने कहा कि वह सांसद अनिल फिरोजिया के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भी पत्र लिखेंगे ताकि जनता में ऐसे जनप्रतिनिधियों के खिलाफ जो लोक प्रतिनिधित्व आचरण के विरूद्ध कार्य करते है एक सकारात्मक संदेश जाए और उन्हें सबक मिल सके। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept