उत्तर प्रदेश में जल्द शुरू होगा ब्रह्मोस मिसाइलों का निर्माण, 10 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार, जानें क्या है पूरा प्लान

 BrahMos missiles
अभिनय आकाश । Aug 24, 2021 9:12PM
ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल को डीआरडीओ, भारत सरकार और एनपीओएम, रूस सरकार के संयुक्त उपक्रम ब्रह्मोस एरोस्पेस द्वारा परिकल्पित, विकसित एवं उत्पादित किया जा रहा है। व

यूपी जल्द ही अत्याधुनिक ब्रह्मोस मिसाइल का निर्माण शुरू कर सकता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने परियोजना के लिए अपनी सहमति दे दी है। ब्रह्मोस एयरोस्पेस के महानिदेशक डॉ सुधीर कुमार मिश्रा ने यूपीईडा के सीईओ और अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी को भेजे गए एक पत्र में रक्षा गलियारे में परियोजना के लिए 200 एकड़ जमीन मांगी है।  टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार ब्रह्मोस एयरोस्पेस को जमीन उपलब्ध कराने का फैसला किया गया है। एयरोस्पेस के प्रतिनिधिमंडल ने भी आज सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल दुनिया की एकमात्र अनूठी, सटीक और अत्याधुनिक क्रूज मिसाइल है।

ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल को डीआरडीओ, भारत सरकार और एनपीओएम, रूस सरकार के संयुक्त उपक्रम ब्रह्मोस एरोस्पेस द्वारा परिकल्पित, विकसित एवं उत्पादित किया जा रहा है। वर्तमान में, भारतीय रक्षा बलों की तीनों सेवाओं के पास यह हथियार प्रणाली है, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पहले ही परियोजना को आगे बढ़ाने के लिए सहमति दे दी है।

इसे भी पढ़ें: पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 28 नये मामले आये, अब तक 6,42,27,955 डोज लगायी गयी

लगभग 200 एकड़ भूमि की आवश्यकता होगी

डीआरडीओ, रक्षा मंत्रालय, जो संयुक्त उद्यम का प्रमुख शेयरधारक है ने यूपी डिफेंस कॉरिडोर में ब्रह्मोस-एनजी के लिए उत्पादन सुविधा स्थापित करने का प्रस्ताव दिया है। पत्र में कहा गया है और कहा गया है कि राष्ट्रीय महत्व की परियोजना होने के नाते, इस तरह की सुविधा स्थापित करने की आवश्यकता है।  ब्रह्मोस के नेक्स्ट जेनरेशन मिसाइल के उत्पादन के लिए लगभग 200 एकड़ भूमि की आवश्यकता होगी। इस परियोजना को पूर्ण करने के लिए लगभग 300 करोड़ रुपये की धनराशि निवेशित की जाएगी।

अगले पांच वर्षों में डिलीवर किए जाएंगे ब्रह्मोस-एनजी मिसाइल

परियोजना प्रस्ताव के अनुसार, ब्रह्मोस एयरोस्पेस में हैदराबाद, नागपुर और बिलानी में उत्पादन सुविधाएं हैं और भारतीय सेना, नौसेना और वायु सेना द्वारा 35,000 करोड़ रुपये का ऑर्डर मूल्य रखा गया है। प्रस्ताव में यह भी कहा गया है कि ब्रह्मोस-एनजी मिसाइलों की संख्या 400 है, जिनकी कीमत लगभग 8,000 करोड़ रुपये है और अगले पांच वर्षों में डिलीवर किए जाएंगे। इस तरह के आदेश के लिए भारतीय सेना और नौसेना से भी बातचीत चल रही है और अगले पांच वर्षों में 10,000 करोड़ रुपये के अतिरिक्त निर्यात ऑर्डर की संभावना भी नजर आ रही है। अनुमानित ऑर्डर लगभग 42,000 करोड़ रुपये का होगा। प्रस्ताव में उपरोक्त आदेश का निर्माण उत्तर प्रदेश में ही करने का भी इरादा है। 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश की खबरें: गन्ना विकास विभाग द्वारा 02 सहकारी चीनी मिलों में नई डिस्टलरी की स्थापना

रोजगार में होगा इजाफा

परियोजना प्रस्ताव अनुमान के अनुसार, नागरिक बुनियादी ढांचे के लिए 300 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा और निर्माण कार्य भूमि पर कब्जा मिलने के तीन महीने के भीतर शुरू हो जाएगा। इस परियोजना से भारी रोजगार पैदा होने की उम्मीद है। प्रस्ताव के अनुसार, प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से कुशल, अर्ध-कुशल गैर-कुशल श्रमिकों सहित लगभग 10,000 कर्मियों की आवश्यकता होगी। अकेले यूनिट को लगभग 500 इंजीनियरों और तकनीशियनों की आवश्यकता होगी, जबकि शेष अन्य सहायक होंगे। इस परियोजना से तीसरे वर्ष तक 300 मिसाइलों का उत्पादन होने की उम्मीद है और इससे हर साल 360 करोड़ रुपये के जीएसटी का उत्पादन होने की उम्मीद है, जो 4 वर्षों के दौरान कुल 1440 करोड़ रुपये है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़