इंदौर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 3,300 के पार, अबतक 126 मरीजों की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 29, 2020   10:39
इंदौर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 3,300 के पार, अबतक 126 मरीजों की मौत

सीएमएचओ प्रवीण जड़िया ने कहा कि जिले में कोविड-19 की स्थिति के बारे में हम कुछ भी छिपाना नहीं चाहते हैं। कई बार संबंधित अस्पताल हमें इस महामारी के मरीज की मौत की जानकारी देरी से देता है इसलिए इसका ब्योरा बताए जाने में हमारी ओर से भी थोड़ा विलम्ब हो जाता है।

इंदौर। देश में कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में शामिल इंदौर में इस महामारी का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। जिले में पिछले 24 घंटे के दौरान इस महामारी के 84 नये मामलों की पुष्टि के साथ ही इसके मरीजों की तादाद 3,260 से बढ़कर 3,344 हो गयी है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) प्रवीण जड़िया ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। उन्होंने यह भी बताया कि कोविड-19 से संक्रमित 80 वर्षीय महिला और 84 वर्षीय पुरुष समेत चार मरीजों की अलग-अलग अस्पतालों में इलाज के दौरान मौत हो गयी। इसके बाद जिले में इस महामारी की चपेट में आकर दम तोड़ने वाले मरीजों की तादाद बढ़कर 126 पर पहुंच गई है। 

इसे भी पढ़ें: देश में पिछले 24 घंटों में सामने आए कोरोना के सबसे ज्यादा 7,466 नए मामले, अबतक 4,706 लोगों की मौत 

अधिकारियों के मुताबिक इनमें शामिल 62 वर्षीय पुरुष ने 20 मई को शहर के एक सरकारी अस्पताल में दम तोड़ा था लेकिन उसकी मौत की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के 28 मई को देर रात जारी मेडिकल बुलेटिन में दी गयी यानी इस मौत का खुलासा आठ दिन बाद किया गया। जिले में कोविड-19 से मरने वाले लोगों का आधिकारिक ब्योरा विलंब से जाहिर किये जाने को लेकर स्वास्थ्य विभाग पर लगातार सवाल उठ रहे हैं। गैर सरकारी संगठनों का आरोप है कि विभाग इन मौतों का खुलासा अपनी सुविधानुसार कर रहा है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में Covid-19 के 1,024 नये मामले सामने आये, संक्रमितों की संख्या 16 हजार के पार 

इस बारे में पूछे जाने पर सीएमएचओ ने कहा, ‘‘जिले में कोविड-19 की स्थिति के बारे में हम कुछ भी छिपाना नहीं चाहते हैं। कई बार संबंधित अस्पताल हमें इस महामारी के मरीज की मौत की जानकारी देरी से देता है इसलिए इसका ब्योरा बताए जाने में हमारी ओर से भी थोड़ा विलम्ब हो जाता है।’’ कोविड-19 के प्रकोप के मद्देनजर इंदौर जिला रेड जोन में बना हुआ है। जिले में कोरोना वायरस के प्रकोप की शुरूआत 24 मार्च से हुई, जब पहले चार मरीजों में इस महामारी की पुष्टि हुई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।