किसानों को ‘काले कानूनों’ के फायदे नहीं बता पाए प्रधानमंत्री: कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 21, 2021   07:10
किसानों को ‘काले कानूनों’ के फायदे नहीं बता पाए प्रधानमंत्री: कांग्रेस

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने अपने ट्वीट में कहा है, ‘‘हमारे “भाषणजीवी” प्रधानमंत्री किसानों-ज़मीन मालिकों को भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के फ़ायदे नहीं समझा सके। अर्थशास्त्रियों-देशवासियों को नोटबंदी के फ़ायदे नहीं समझा सके। व्यापारियों-दुकानदारों को जीएसटी के फ़ायदे नहीं समझा सके।’’

नयी दिल्ली|कांग्रेस ने तीन केंद्रीय कृषि कानूनों को निरस्त करने की घोषणा को लेकर शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वह अपने पहले के कई कदमों की तरह इन ‘काले कानूनों’ के फायदे के बारे में किसानों को नहीं समझा सके।

प्रधानमंत्री मोदी ने शुक्रवार को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने के निर्णय की घोषणा करते हुए कहा कि संसद के आगामी सत्र में इसके लिए समुचित विधायी उपाय किए जाएंगे।

इसे भी पढ़ें: ‘‘काले’’ कानूनों को निरस्त करना सही दिशा में उठाया गया कदम, एमएसपी बड़ा मुद्दा : सिद्धू

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट किया, ‘‘हमारे “भाषणजीवी” प्रधानमंत्री किसानों-ज़मीन मालिकों को भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के फ़ायदे नहीं समझा सके। अर्थशास्त्रियों-देशवासियों को नोटबंदी के फ़ायदे नहीं समझा सके। व्यापारियों-दुकानदारों को जीएसटी के फ़ायदे नहीं समझा सके।’’

उन्होंने दावा किया, ‘‘वह अल्पसंख्यकों को सीएए के फ़ायदे नहीं समझा सके।मध्यम वर्ग-किसानों-ग़रीबों को खुली लूट की तरह बढ़ाई गयी पेट्रोल-डीज़ल पर उत्पाद शुल्क के फ़ायदे नहीं समझा सके। गृहणियों को 1,000 रुपये के गैस सिलेंडर के फ़ायदे नहीं समझा सके।’’

सुरजेवाला ने कटाक्ष करते हुए कहा, ‘‘प्रधानमंत्री, उद्योगपतियों व निवेशकों को मेक इन इंडिया के फ़ायदे नहीं समझा सके। किसानों को काले कृषि कानूनों के फ़ायदे नहीं समझा सके। नासमझी की भी हद होती है साहेब ! देश सब समझता है, सूट-बूट सरकार नहीं।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान के तीन मंत्रियों का सोनिया को पत्र, पद छोड़कर पार्टी के लिए काम करने की इच्छा जताई





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।