हिमाचल प्रदेश में कोविड-19 से दो महिलाओं की मौत, संक्रमण के मामलों की संख्या 224 हुई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 26, 2020   09:53
हिमाचल प्रदेश में कोविड-19 से दो महिलाओं की मौत, संक्रमण के मामलों की संख्या 224 हुई

अधिकारियों ने बताया कि सामने आए 20 नये मामलों में सात महीने का एक बच्चा और उसकी 28 वर्षीय मां भी शामिल है। अधिकारियों ने बताया कि मंडी के रत्ती गांव निवासी 65 वर्षीय एक महिला की राजकीय अस्पताल में मौत हो गई, वहीं हमीरपुर निवासी 72 वर्षीय एक महिला की मौत शिमला अस्पताल में हो गई।

शिमला। हिमाचल प्रदेश में कोविड-19 से दो बुजुर्ग महिलाओं की मौत होने के बाद राज्य में महामारी के कारण मरने वालों की संख्या छह हो गई है। इसके साथ ही राज्य में कोरोना वायरस के 20 नये मामलों के साथ कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 224 हो गई है। अधिकारियों ने बताया कि सामने आए 20 नये मामलों में सात महीने का एक बच्चा और उसकी 28 वर्षीय मां भी शामिल है। अधिकारियों ने बताया कि मंडी के रत्ती गांव निवासी 65 वर्षीय एक महिला की नेरचौक स्थित श्री लाल बहादुर शास्त्री राजकीय अस्पताल में सोमवार को मौत हो गई, वहीं हमीरपुर निवासी 72 वर्षीय एक महिला की मौत रविवार रात शिमला स्थित इंदिरा गांधी चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल में हो गई। उन्होंने कहा कि दोनों महिलाएं अन्य बीमारियां से भी पीड़ित थीं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी जीवानंद चौहान ने बताया कि मंडी निवासी महिला को गुर्दे से संबंधित समस्या थी और उनका डायलिसिस होता था। वह 20 मई को जांच रिपोर्ट में कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गई थीं, लेकिन यह पता नहीं चल पाया कि वह किसके संपर्क में आई थीं। 

इसे भी पढ़ें: हिमाचल के हमीरपुर और सोलन में 30 जून तक बढ़ाया गया कोविड-19 कर्फ्यू

इंदिरा गांधी चिकित्सा महाविद्यालय के वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक जनकराज ने बताया कि हमीरपुर निवासी महिला को स्थिति खराब होने के बाद उनके अस्पताल में रेफर किया गया था। उनके पति भी बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे। वह अन्य बीमारियों के इलाज के लिए पंजाब के जालंधर भी गई थीं। उन्होंने बताया कि वापस लौटने पर महिला को हमीरपुर में सरकारी चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल में भर्ती कराया गया। राज्य में कोरोना वायरस के सभी 20 नये मरीज दूसरे राज्यों से लौटे थे। इनमें 10 महाराष्ट्र से, चार तमिलनाडु से, तीन दिल्ली से और दो लोग गुजरात के अहमदाबाद से लौटे थे। उन्होंने बताया कि नये मरीजों में आठ कांगड़ा, चार चंबा, चार शिमला, तीन बिलासपुर और एक हमीरपुर से लौटे थे। जिले के अधिकारी ने बताया कि कांगड़ा में सात महीने का एक बच्चा और उसकी 28 वर्षीय मां के सोमवार को कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई। उन्होंने बताया कि महिला 19 मई को टैक्सी के जरिये दिल्ली से लौटी थी और जवाली तहसील के कुथर गांव में अपने मां के घर पृथकवास में रह रही थी। उसे डाध कोविड देखभाल केंद्र में भर्ती किया गया है। 

इसे भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश में कोरोना के कुल 210 मामले, 63 लोग पूरी तरह से हो चुके हैं ठीक

अधिकारी ने बताया कि इनके अलावा महाराष्ट्र से लौटे चार लोगों और अहमदाबाद से लौटे दो लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। बिलासपुर में मुंबई से लौटे दो लोगों और दिल्ली से लौटे एक व्यक्ति के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है। उन्होंने बताया कि 21 से 32 वर्ष उम्र के चार लोग तमिलनाडु से चंबा आए थे और उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। इनमें से दो 18 मई को चेन्नई से विशेष रेलगाड़ी से लौटे थे। उपायुक्त अमित कश्यप ने बताया कि शिमला के चौपाल तहसील क्षेत्र के तीन लोग 18 मई को मुंबई से एक ट्रेन से लौटे थे। उन्हें देहा में संस्थागत पृथक-वास में रखा गया था। शिमला के पुलिस अधीक्षक ओमपति जामवाल ने कहा कि कोटखई का चौथा व्यक्ति भी बाहर से भी आया था और उसे संस्थागत पृथकवास में रखा गया है। हमीरपुर के उपायुक्त हरिकेश मीणा ने कहा कि जिले में 25 वर्षीय एक महिला कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गई है। वह 22 मई को मुंबई से लौटी थी। उसका पति भी कुछ दिन पहले संक्रमित पाया गया था। अधिकारियों के अनुसार, राज्य में कोरोना वायरस के कुल 224 मामले सामने आए हैं जिनमें से 67 लोग ठीक हो चुके हैं और 151 लोग अस्पतालों में भर्ती हैं। हमीरपुर में सर्वाधिक 56 उपचाराधीन मरीज हैं जबकि कांगड़ा में 42, उना में 13, सोलन में 11, मंडी में आठ, चंबा और बिलासपुर में सात, शिमला में चार, सिरमौर में दो और कुल्लू में एक मरीज का इलाज जारी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।