दरभंगा हवाईअड्डे का नाम कवि विद्यापति के नाम पर रखा जाना चाहिए: नीतीश

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 23, 2020   22:01
दरभंगा हवाईअड्डे का नाम कवि विद्यापति के नाम पर रखा जाना चाहिए: नीतीश

उन्होंने पत्र में लिखा कि यदि हवाईअड्डे पर आधारभूत संरचनाओं का और विकास हो एवं यात्रियों के लिए मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं तो शीघ्र ही यात्री संख्या में और इजाफा हो सकता है। उन्होंने पत्र में कहा, दरभंगा हवाईअड्डे का नाम कवि विद्यापति के नाम पर रखने का प्रस्ताव लंबित है।

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केन्द्रीय नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी को दरभंगा हवाईअड्डे के विकास को लेकर पत्र लिखा है। मुख्यमंत्री ने इस हवाईअड्डे का नाम कवि विद्यापति के नाम पर रखने के लंबित प्रस्ताव को लेकर भी अपील की। नीतीश ने नागरिक उड्डयन मंत्री को मंगलवार को लिखे पत्र में कहा कि दरभंगा हवाईअड्डे के शुरू होने के बाद कम समय में ही इस हवाईअड्डे का काफी लोग प्रयोग करने लगे हैं और भविष्य में इसके विकास की काफी संभावनाएं हैं। उन्होंने पत्र में लिखा कि यदि हवाईअड्डे पर आधारभूत संरचनाओं का और विकास हो एवं यात्रियों के लिए मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं तो शीघ्र ही यात्री संख्या में और इजाफा हो सकता है। उन्होंने पत्र में कहा, दरभंगा हवाईअड्डे का नाम कवि विद्यापति के नाम पर रखने का प्रस्ताव लंबित है।

दरभंगा में 24 दिसंबर 2018 को हवाईअड्डे के शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान मैंने दरभंगा हवाईअड्डे का नामकरण विद्यापति हवाईअड्डा करने का प्रस्ताव दिया था और कार्यक्रम में उपस्थित तत्कालीन केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु जी ने इस पर अपनी सहमति भी दी थी। नीतीश ने नागरिक उड्डयन मंत्री से कहा, ‘‘आप अवगत हैं कि विद्यापति केवल कवि मात्र नहीं थे। वह बिहार और मिथिला के लोगों के दिलों में बसते हैं। मिथिलावासियों के साथ-साथ मेरी भी भावना है कि दरभंगा हवाईअड्डे को विद्यापति हवाईअड्डे के नाम से अधिसूचित किया जाये। उन्होंने कहा, ‘‘ हवाई यात्रियों की बढ़ती मांग के मद्देनजर यहां से उड़ानों की संख्या बढ़ाने और अन्य विमानन कंपनियों की सेवाओं को दरभंगा हवाईअड्डे से जोड़ने की जरूरत है। दरभंगा का देश के कुछ और प्रमुख शहरों से संपर्कता स्थापित करने के लिए सीधी विमान सेवा उपलब्ध कराना आवश्यक है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।