डीसी राघव शर्मा ने बीमा जागरूकता वाहन को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

डीसी राघव शर्मा ने बीमा जागरूकता वाहन को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

राघव शर्मा ने कहा कि जिन किसानों ने कहीं से ऋण नहीं ले रखा एवं उन्हें अपने उद्यान के पौधों का बीमा करवाना है, वो नजदीकी लोक मित्र केंद्र या बागवानी विभाग के कार्यालय में जाकर संपर्क कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए टोल फ्री नंबर 1800-116-515, 0172-2538046 पर सम्पर्क किया जा सकता है। इस अवसर पर उप-निदेशक बागवानी विभाग डॉ. अशोक कुमार धीमान सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

ऊना   पुनर्गठित मौसम आधारित फसल बीमा योजना के तहत उपायुक्त ऊना राघव शर्मा ने आज एक जागरूकता वाहन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। डीसी ने अधिक से अधिक किसानों से फसल बीमा योजना का लाभ उठाने की अपील करते हुए कहा कि 20 दिसंबर तक जिला ऊना के किसान 31 रुपए प्रति आम के पेड़ के प्रीमियम पर बीमा करा सकते हैं, जिसमें बीमित राशि 620 रुपए प्रति पेड़ होगी। जबकि संतरा, किन्नू जैसे सिट्रस पौधों का बीमा कराने के लिए किसान को 24.75 रुपए प्रीमियम देना होगा और बीमित राशि 520 रुपए प्रति पेड़ रहेगी। सिट्रस पौधों का बीमा 14 फरवरी 2022 तक करवाया जा सकता है।

 

राघव शर्मा ने कहा कि पुनर्गठित मौसम आधारित फसल बीमा योजना के अंतर्गत किसान मौसम की विषमताओं से उपज की क्षति से हुए नुकसान की भरपाई कर सकते हैं। ऊना जिले में मौसम आधारित बीमा, फसल बीमा एग्रीकल्चर इश्योरेंस कंपनी के माध्यम से किया जा रहा है। जिन किसानों ने उद्यान की फसलों के लिए बैंक से लोन ले रखा है, उनका बीमा बैंक स्वतः करते हैं और जो ऋणी किसान योजना में भाग नहीं लेना चाहते, वह बैंक को अंतिम तिथि से 7 दिन पहले लिखित में घोषणा पत्र दे सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: थलाईवी” के निर्देशक विजय 28 को आएंगे शिमला, देंगे निर्देशन के टिप्स

राघव शर्मा ने कहा कि जिन किसानों ने कहीं से ऋण नहीं ले रखा एवं उन्हें अपने उद्यान के पौधों का बीमा करवाना है, वो नजदीकी लोक मित्र केंद्र या बागवानी विभाग के कार्यालय में जाकर संपर्क कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए टोल फ्री नंबर 1800-116-515, 0172-2538046 पर सम्पर्क किया जा सकता है। इस अवसर पर उप-निदेशक बागवानी विभाग डॉ. अशोक कुमार धीमान सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।