दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर: किसानों ने यूपी गेट के पास NH9 के सभी 14 लेनों को किया जाम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 23, 2020   08:21
दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर: किसानों ने यूपी गेट के पास NH9 के सभी 14 लेनों को किया जाम

केन्द्र के कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली-गाजियाबाद की सीमा पर यूपी गेट के पास प्रदर्शन कर रहे किसानों ने मंगलवार को राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 9 के सभी 14 लेनों को आठ घंटे तक जाम रखा और कथित रूप से एक पत्रकार और फोटोग्राफर के साथ धक्का-मुक्की की।

गाजियाबाद। केन्द्र के कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली-गाजियाबाद की सीमा पर यूपी गेट के पास प्रदर्शन कर रहे किसानों ने मंगलवार को राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 9 के सभी 14 लेनों को आठ घंटे तक जाम रखा और कथित रूप से एक पत्रकार और फोटोग्राफर के साथ धक्का-मुक्की की।

इसे भी पढ़ें: किसान ने पत्नी और दो बच्चों सहित खाना जहर, हालत गंभीर अस्पताल में भर्ती

किसानों ने सुबह नौ बजे से शाम पांच बजे तक राजमार्ग के मुख्य रास्ते को जाम कर दिया हालांकि प्रशासन के बार-बार अनुरोध करने पर उन्होंने दिल्ली से गाजियाबाद जाने वाले एक मार्ग को खोला। पत्रकारों से साथ धक्का-मुक्की की सूचना मिलने के बाद बीकेयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने प्रदर्शन करने वाले समूह में शामिल युवाओं को पत्रकारों के साथ गलत व्यवहार करने को लेकर डांट लगायी।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के जबलपुर में आग लगने की दो घटनाओं में 25 लाख का माल जलकर खाक

बीकेयू के राज्य प्रमुख राजबीर सिंह ने पीटीआई-को बताया कि बरेली और रामपुर से आ रहे कुछ किसानों की ट्रैक्टर ट्रॉली को स्थानीय पुलिस ने रोक दिया था, उसी के विरोध में राजमार्ग जाम किया गया। गाजियाबाद के जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने कहा कि यूपी गेट पर धरना दे रहे सभी किसान संगठनों के प्रतिनिधियों की समिति गठित कर दी गई है। उन्होंने बताया कि सामान्य यात्रियों की समस्याओं के बारे में बताने पर समिति के सदस्यों ने राजमार्ग पर एक रास्ता खोल दिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।