दिल्ली सरकार द्वारा निजी ऑपरेटरों से किराए पर ली गईं 550 बसें सोमवार से सड़कों पर उतरेंगी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2021   08:01
दिल्ली सरकार द्वारा निजी ऑपरेटरों से किराए पर ली गईं 550 बसें सोमवार से सड़कों पर उतरेंगी

परिवहन विभाग के एक अधिकारी ने कहा, अब तक, 750 से अधिक बसों को पंजीकृत किया गया है, जिनमें से लगभग 550 को पर्यावरण सेवा के तहत सोमवार से सड़कों पर उतारा जाएगा। ये बसें सार्वजनिक परिवहन में वृद्धि करेंगी।

नयी दिल्ली|  दिल्ली सरकार द्वारा निजी ऑपरेटरों से किराए पर ली गईं करीब 550 बसें सोमवार से “पर्यावरण सेवा” के तहत महानगर की सड़कों पर चलने लगेंगी।

इसका मकसद राष्ट्रीय राजधानी में खतरनाक वायु गुणवत्ता के मद्देनजरनिजी वाहनों से सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करने में लोगों की मदद करना है।अधिकारियों ने यह जानकारी दी। दिल्ली सरकार ने हाल में निजी ऑपरेटरों से 1,000 सीएनजी बसें किराए पर लेने का फैसला किया है।

इसे भी पढ़ें: वायु प्रदूषण से निपटने के लिए डीडीएमए ने मेट्रो और बसों में खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति दी

 

परिवहन विभाग के एक अधिकारी ने कहा, अब तक, 750 से अधिक बसों को पंजीकृत किया गया है, जिनमें से लगभग 550 को पर्यावरण सेवा के तहत सोमवार से सड़कों पर उतारा जाएगा। ये बसें सार्वजनिक परिवहन में वृद्धि करेंगी।

अधिकारियों ने कहा कि निजी ऑपरेटरों से किराए पर ली गई बसें अपने वाहनों का उपयोग करने वाले लोगों को सार्वजनिक परिवहन का विकल्प चुनने के लिए प्रोत्साहित करेंगी।

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने शहर में वायु प्रदूषण के खतरनाक स्तर को देखते हुए शनिवार को बसों और मेट्रो में यात्रियों को खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति दी थी।

पिछले महीने बसों और मेट्रो सेवाओं को पूरी क्षमता के साथ चलाने की अनुमति दी गई थी, लेकिन कोविड-19 महामारी के मद्देनजर भीड़ न लगे, इसलिये यात्रियों को खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति नहीं दी गई थी।

इसे भी पढ़ें: वायु प्रदूषण: दिल्ली ने ट्रक के प्रवेश पर प्रतिबंध को बढ़ाया, निर्माण कार्य पर लगी पांबदी हटाई गई





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।