Attention Please: दफ्तरों के समय में हो सकता है बदलाव, काम शुरू करने से पहले जानें मामला

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 26, 2019   11:08
Attention Please: दफ्तरों के समय में हो सकता है बदलाव, काम शुरू करने से पहले जानें मामला

एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि योजना के तौर-तरीकों पर जल्द ही काम किया जाएगा और यह सर्दी में प्रदूषण कम करने के लिए अस्थायी कदम हो सकता है।

नयी दिल्ली। दिल्ली सरकार भीड़ कम करने और वायु प्रदूषण से निपटने कि लिए दफ्तरों के खुलने-बंद होने के समय में फेरबदल पर विचार कर रही है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उपराज्यपाल अनिल बैजल के साथ बैठक के बाद ट्वीट कर इसकी घोषणा की। केजरीवाल ने ट्वीट किया कि आदरणीय उपराज्यपाल श्री अनिल बैजल जी से मुलाकात की और उन्हें सम-विषम समेत वायु प्रदूषण कम करने के लिए उठाए जाने वाले योजनाबद्ध कदमों से अवगत कराया। उन्होंने हमें अपना समर्थन देने का आश्वासन देते हुए दफ्तरों के खुलने और बंद होने के समय में फेरबदल का सुझाव दिया। सरकार निश्चित तौर पर इसे क्रियान्वित करेगी। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में एनआरसी हुई तो मनोज तिवारी को छोड़ना पड़ेगा शहर: केजरीवाल

इस संबंध में एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि योजना के तौर-तरीकों पर जल्द ही काम किया जाएगा और यह सर्दी में प्रदूषण कम करने के लिए अस्थायी कदम हो सकता है। शहर में दिल्ली सरकार के लगभग एक लाख कर्मचारी हैं। अधिकतर सरकारी कार्यालयों के खुलने का समय सुबह साढ़े आठ से साढ़े नौ बजे के बीच है। बैठक के बाद बैजल ने कहा कि उन्होंने और मुख्यमंत्री ने दिल्ली में प्रदूषण और भीड़-भाड़ कम करने के कदमों पर चर्चा की। बैजल ने ट्वीट किया कि वायु प्रदूषण और भीड़भाड़ कम करने के लिए दफ्तरों के खुलने/बंद होने के समय में बदलाव समेत अन्य उपाय तलाशने के लिए अनुरोध किया गया। 

इसे भी पढ़ें: किराएदारों को केजरीवाल सरकार का तोहफा, बिजली मीटर योजना का किया ऐलान

अधिकारी ने कहा कि दफ्तरों के खुलने और बंद होने के समय अलग-अलग सकता है, लेकिन काम के घंटे प्रतिदिन आठ ही रहने चाहिए। इस महीने के शुरू में केजरीवाल ने 4 से 15 नवबंर के बीच शहर में सम-विषम योजना लागू करने की घोषणा की थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।