दिल्ली ने पॉलिटिकल कल्चर का 5वां मॉडल 'नाकामपंथी' भी देखा है: मोदी

By अभिनय आकाश | Publish Date: May 8 2019 7:59PM
दिल्ली ने पॉलिटिकल कल्चर का 5वां मॉडल 'नाकामपंथी' भी देखा है: मोदी
Image Source: Google

मोदी ने कहा, ''दिल्ली में पंजाब-हरियाणा का जोश है, तो पूर्वांचल की मिठास है, नार्थ ईस्ट का उत्साह है तो दक्षिण भारत की सौम्यता। ये मेरा सौभाग्य है कि आपने मुझे सेवा का अवसर दिया।''

नई दिल्ली। दिल्ली में 12 मई को होने वाले चुनाव को लेकर राजनीतिक उठा-पटक तेज हो गई है। पहले प्रियंका गांधी का रोड शो और फिर पीएम नरेंद्र मोदी के मेगा शो का गवाह बना दिल्ली का सियासी मैदान।  दिल्ली के रामलीला मैदान में रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि दिल्ली में पंजाब-हरियाणा का जोश है, तो पूर्वांचल की मिठास है, नार्थ ईस्ट का उत्साह है तो दक्षिण भारत की सौम्यता। ये मेरा सौभाग्य है कि आपने मुझे सेवा का अवसर दिया। मोदी ने कहा कि दिल्ली में भाजपा को दिल्ली में भरपूर प्यार मिला है। इसलिए दिल्ली के हर व्यक्ति का आभार प्रकट करते हैं। पीएम बनने के बाद काफिला देखकर दुख होता था। बुलेटप्रूफ दीवारों में रहना मेरा शौक और आदत नहीं है। मेट्रो में सफर के दौरान लोगों से मिलना यादगार पल होता है। दिल्ली के मजबूत समर्थन से आज नए भारत का रास्ता प्रशस्त हुआ है। मेरे फैसले में हमेशा दिल्ली के लोगों ने साथ दिया। बीते 5 सालों में बड़े और कड़े फैसले लिए गए हैं। 1400 से ज्यादा गैर जरुरी कानून खत्म किे। ईज आफ ड्यूंग बिजनेस में बड़े काम किए। 



मोदी ने कहा, 'दिल्ली में पंजाब-हरियाणा का जोश है, तो पूर्वांचल की मिठास है, नोर्थ ईस्ट का उत्साह है तो दक्षिण भारत की सौम्यता। ये मेरा सौभाग्य है कि आपने मुझे सेवा का अवसर दिया।' पीएम ने कहा, 'बुलेट प्रूफ दीवारों में रहना न मेरा शौक है और न ही मेरी आदत है। जब-जब मौका मिला है मैंने इस दीवार को साइड रखने की कोशिश भी की है। अक्सर दिल्ली मेट्रो में सफर करते हुए जब लोगों से घिर जाता हूं, तो वो मेरे लिए बहुत यादगार पल होते हैं।' पीएम ने विपक्ष पर प्रहार करते हुए कहा कि हमारे देश में आजदी के बाद 4 तरह के राजनीतिक कल्चर चलें- पहला- नामपंथी दूसरा- वामपंथी तीसरा- दाम और दमनपंथी और चौथा है जो हम लाये हैं- विकासपंथी। मोदी ने इशारों-इशारों में केजरीवाला पर निशाना साधते हुए कहा कि  दिल्ली देश का वो इकलौता राज्य है जिसने पॉलिटिकल कल्चर का एक पांचवां मॉडल भी देखा, इसका नाम है नाकामपंथी। पीएम ने कहा कि इतना ही नहीं, इन्होंने देश में नई राजनीति के प्रयासों को भी नाकाम किया है। नाकामपंथी विकास के काम को ना कहते हैं। ये देश बदलने आए थे और खुद बदल गए। मोदी ने कहा कि पहले हर किसी पर आरोप लगाए और फिर माफी मांगी। इतना ही नहीं पीएम ने केजरीवाल को निशाने पर लेते हुए कहा कि टुकड़े-टुकड़े गैंग के समर्थन में जाकर खड़े हो गए। 
विपक्ष के वंशवाद पर प्रहार करते हुए पीएम ने कहा कि वंशवाद की ये विकृति कांग्रेस के साथ दूसरे महामिलावटी दलों में भी फैली हुई है। जम्मू कश्मीर में अब्दुल्ला वंश और मुफ्ती वंश चल रहा है। यूपी में मुलायम सिंह जी तो बिहार में लालू जी के परिवार के नाम पर ही पार्टियां चल रही हैं। साथ ही उन्होंने महाराष्ट्र में शरद पवार,  देवेगौड़ा, करुणानिधि और चंद्रबाबू नायडू को भी वंशवाद के मुद्दे पर निशाने पर लिया। पीएम ने कांग्रेस के न्याय योजना पर सवाल उठाते हुए कहा कि कांग्रेस आजकल अचानक न्याय की बात करने लगी है। कांग्रेस को बताना पड़ेगा, कि 1984 के सिख दंगों में हुए अन्याय का हिसाब कौन देगा? कांग्रेस को बताना पड़ेगा कि सिख दंगों से जुड़ा होने का जिन पर आरोप है, उनको मुख्यमंत्री बनाना कौन सा न्याय है। मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने देश के साथ जो अन्याय किया, हम उसे निरंतर कम करने की कोशिश कर रहे हैं। मुझे संतोष है कि तीन दशक बाद पहली बार 84 के सिख दंगों के गुनहगारों के गिरेबान तक कानून पहुंचा है। पहली बार वो सलाखों के पीछे पहुंचे हैं, फांसी के फंदे तक पहुंचे हैं। पीएम मोदी की रैली के दौरान डा. हर्षवर्धन, निर्मला सीतारमण और प्रवेश वर्मा भी मौजूद रहे।


 



रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video