दिल्ली खेल विश्वविद्यालय में अगले साल अप्रैल से कक्षा छह से नौ तक के छात्र ले सकेंगे प्रवेश

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 29, 2021   16:28
दिल्ली खेल विश्वविद्यालय में अगले साल अप्रैल से कक्षा छह से नौ तक के छात्र ले सकेंगे प्रवेश

दिल्ली खेल विश्वविद्यालय में अगले साल अप्रैल से कक्षा छह से नौ तक के छात्र प्रवेश ले सकेंगे।मल्लेश्वरी पूर्व भारोत्तोलक हैं और ओलंपिक में भारत को पदक दिलाने वाली पहली महिला हैं। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के साथ अच्छी बात यह है कि इसमें एक स्कूल की स्थापना की जाएगी जिसमें कम उम्र में छात्रों को प्रवेश दिया जाएगा।

नयी दिल्ली। दिल्ली खेल विश्वविद्यालय अगले साल अप्रैल से कक्षा छह से नौ के छात्रों को प्रवेश देना शुरू कर सकता है और राष्ट्रीय राजधानी के सिविल लाइन्स क्षेत्र में स्थित ‘लुडलो स्पोर्ट्स कैसल’ में संचालन आरंभ करेगा। विश्वविद्यालय की कुलपति कर्णम मल्लेश्वरी ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कम उम्र में प्रशिक्षण शुरू करने वाले छात्र 18-19 साल का होने पर ओलंपिक के तैयार हो जाएंगे। फोन पर एक साक्षात्कार में मल्लेश्वरी ने कहा कि विश्वविद्यालय की टीमें प्रतिभावान खिलाड़ियों की पहचान करने के लिए देश के विभिन्न खेल संस्थानों में जाएंगी।

इसे भी पढ़ें: गोवा में लड़कियों को रात में बाहर नहीं जाना चाहिए? मेडिकल डिग्री प्राप्त गोवा के सीएम प्रमोद सावंत का बयान

मल्लेश्वरी पूर्व भारोत्तोलक हैं और ओलंपिक में भारत को पदक दिलाने वाली पहली महिला हैं। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के साथ अच्छी बात यह है कि इसमें एक स्कूल की स्थापना की जाएगी जिसमें कम उम्र में छात्रों को प्रवेश दिया जाएगा और उन्हें ओलंपिक के लिए तैयार किया जाएगा। उन्होंने कहा, “हम कक्षा छह और उसके ऊपर की कक्षाओं के छात्रों को प्रवेश देना शुरू करेंगे और वह छात्र हमारे साथ पीएचडी स्तर तक रहेगा। अच्छी बात यह होगी कि अगर 11 साल का एक बच्चा हमारे पास आता है तो 18-19 साल का होने तक वह ओलंपिक के लिए तैयार हो जाएगा। हम अप्रैल से प्रवेश देना शुरू करने की योजना बना रहे हैं और कक्षा छह से नौ तक के छात्रों को प्रवेश देंगे।” मल्लेश्वरी ने कहा कि स्कूल में प्रवेश अगले साल अप्रैल से शुरू हो सकता है और लुडलो स्पोर्ट्स कैसल में कक्षाएं आरंभ होंगी। उन्होंने कहा कि शुरुआत में 250 छात्रों को प्रवेश दिया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।