दिल्ली हिंसा: कांग्रेस ने अमित शाह का इस्तीफा मांगा, राहुल गांधी ने की हिंसा की निंदा

delhi-violence-congress-demands-amit-shah-resignation-rahul-gandhi-condemns-violence
दिल्ली के जाफराबाद और मौजपुर में सोमवार को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का समर्थन करने वाले और विरोध करने वाले समूहों के बीच संघर्ष हो गया और प्रदर्शनकारियों ने कई घरों, दुकानों तथा वाहनों में आग लगा दी और एक-दूसरे पर पथराव किया।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने दिल्ली में हिंसक झड़प मामले में केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह की ‘चुप्पी’ को लेकर सोमवार को सवाल उठाया और उनके इस्तीफे की मांग की। पार्टी नेता राहुल गांधी ने लोगों से उकसावे की चाहे जो भी वजह हो उसके बावजूद संयम, करुणा और समझदारी दिखाने का अनुरोध किया। पार्टी ने शहर में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति को बनाये रखने में विफल रहने के लिए दिल्ली पुलिस को जिम्मेदार ठहराया और ‘‘अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ने के लिए’’ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की निंदा की। पार्टी ने कहा कि दिल्ली के लोग राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप की कीमत चुका रहे हैं। गांधी ने कहा कि शांतिपूर्ण प्रदर्शन स्वस्थ लोकतंत्र की पहचान है लेकिन हिंसा को कभी भी न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता है।

गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘दिल्ली में आज हुई हिंसा परेशान करने वाली है और इसकी निंदा की जानी चाहिए। शांतिपूर्ण प्रदर्शन स्वस्थ लोकतंत्र की पहचान है, लेकिन हिंसा को कभी भी उचित नहीं ठहराया जा सकता। मैं दिल्ली के नागरिकों से उकसावे की जो भी वजह हो उसके बावजूद संयम, करुणा और समझदारी दिखाने का अनुरोध करता हूं।’’ दिल्ली के जाफराबाद और मौजपुर में सोमवार को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का समर्थन करने वाले और विरोध करने वाले समूहों के बीच संघर्ष हो गया और प्रदर्शनकारियों ने कई घरों, दुकानों तथा वाहनों में आग लगा दी और एक-दूसरे पर पथराव किया। हिंसा में दिल्ली पुलिस का एक हेड कांस्टेबल मारा गया और एक पुलिस उपायुक्त घायल हो गया।  राजधानी के चांदबाग और भजनपुरा में भी संघर्ष होने की खबरें हैं।

इसे भी पढ़ें: ‘गेटवे ऑफ इंडिया’ पर भी विरोध-प्रदर्शन की कोशिश, प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने हिरासत में लिया

दिल्ली में संघर्ष का यह दूसरा दिन है, जहां अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सोमवार की शाम पहुंचे है। कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कहा, ‘‘दिल्ली पुलिस कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बनाये रखने में पूरी तरह से विफल रही है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहे है जबकि गृह मंत्री चुप हैं। गृह मंत्री को जिम्मेदारी लेनी चाहिए और तुरन्त इस्तीफा देना चाहिए। दिल्ली के लोग राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप की कीमत चुका रहे हैं।’’ पार्टी ने कहा, ‘‘दिल्ली के कुछ हिस्सों में भयावह हिंसा हो रही है, जिस वजह से एक हेड कांस्टेबल की मौत हो गई, जो कि बहुत दुखद है। हम सभी लोगों से राजधानी में शांति और कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बनाये रखने की अपील करते हैं।’’

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़