दिल्ली में बंद होने जा रहा मैडम तुसाद म्यूजियम, यह है बड़ी वजह

दिल्ली में बंद होने जा रहा मैडम तुसाद म्यूजियम, यह है बड़ी वजह

कनॉट प्लेस स्थित मैडम तुसाद म्यूजियम में कई बड़ी हस्तियों के मोम से बनाये गए पुतले रखे गए हैं। इसमें न केवल खेल बल्कि संगीत, इतिहास और फि‍ल्मी जगत की करीब 50 बड़े सितारों के पुतले शामिल है।सचिन तेंदुलकर से लेकर मेरी कॉम, लेडी गागा, माइकल जैक्सनजैसे सेलिब्रिटी की प्रतिमाओं के हूबहू असली दिखने वाले स्टैच्यू शामिल है।

दिल्ली के कनॉट प्लेस स्थित मैडम तुसाद म्यूजियम जल्द बंद होने जा रहा है। कोरोना महामारी के कारण मार्च से लगे लॉकडाउन से यह म्यूजियम अस्थायी रूप से बंद हो गया था लेकिन अब बढ़ती आर्थिक तंगी और पुतलों के रखरखाव के बढ़ते खर्चों के कारण इस म्यूजियम को बंद किया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक, इस म्यूजियम की पैरेंट कंपनी मर्लिन एंटरटेनमेंट्स ने इस म्यूजियम को जल्द से जल्द बंद करने का ऐलान किया है। 

नहीं ले पाएंगे बड़ी हस्तियों के मोम से बने पुतलों के साथ अब सेल्फी

बता दें कि कनॉट प्लेस स्थित मैडम तुसाद म्यूजियम में कई बड़ी हस्तियों के मोम से बनाये गए पुतले रखे गए हैं। इसमें न केवल खेल बल्कि  संगीत, इतिहास और फि‍ल्मी जगत की करीब 50 बड़े सितारों के पुतले शामिल है। सचिन तेंदुलकर से लेकर मेरी कॉम, लेडी गागा, माइकल जैक्सन, अमिताभ बच्चन और कटरीना कैफ जैसे सेलिब्रिटी की प्रतिमाओं के हूबहू असली दिखने वाले स्टैच्यू शामिल है। इन सब के बीच सबसे आकर्षित स्टैच्यू भारत के प्रधानमंत्री मोदी की है। इस स्टैच्यू को लेकर खुद पीएम मोदी ने कलाकारों की तारीफ की थी।  

इसे भी पढ़ें: ब्रिटेन से केरल लौटे 18 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए, स्वास्थ्य मंत्री शैलजा ने दी जानकारी

इस  म्यूजियम के बंद होने से अब पर्यटन क्षेत्र में भी काफी दिक्कत आ सकती है। क्योंकि पर्यटक ज्यादातर इस तरह की चीजों से आकर्षित होते थे और लोग भी यहां दूर-दूर से आकर सेल्फी लेते थे, लेकिन अब ये मौका नहीं मिल पाएगा। इससे राजधानी दिल्ली को काफी नुकसान हो सकता है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।